लखनऊ। बेसहारों को सहारा देने वाले,बेरोजगारों को रोजगार देने वाले, समाज में असहायों को सहायता देने वाले एवं पर्यावरण चिंतक उत्तर प्रदेश के युवा उद्योगपति व समाजसेवी एवं पर्यावरणविद् आकाश पांडे ने हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी औषधीय पौधों समेत विभिन्न प्रकार के पौधों का वृक्षारोपण गोमती नगर में किया। विदित हो कि शहीद पथ से यू.पी.पी.एच.क्यू .के क्षेत्र में लगभग तीन सौ विभिन्न प्रकार के वृक्षों का वृक्षारोपण किया।
विदित हो कि श्री आकाश पांडे इससे पहले भी पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए विभिन्न प्रजाति के वृक्षारोपण कर चुके हैं। खास बात यह है कि वह इन वृक्षारोपण पौधों में कई प्रकार के औषधीय पौधे भी लगाते हैं। वृक्षारोपण के साथ-साथ युवा उद्योगपति आकाश पांडे समाज सेवा में भी बढ़-चढ़कर के भाग लेते हैं। कोविड-19 काल में 2020 और 2021 में लगभग हजारों लोगों को निर्मित जलपान, भोजन, पानी, के साथ ही खाद्यान्न सामाग्रियों की भी व्यवस्था की है।
साथ ही समाज सेवा के तहत समय-समय पर गरीबों को खाद्य वस्तुओं के अतिरिक्त वस्त्र भी वितरित करते हैं। इसके अतिरिक्त श्री पांडे अभी तक पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए अनेक स्थानों पर लाखों वृक्षारोपण कर चुके हैं। वह इस दौरान घर-घर में औषधीय पौधों का भी वितरण कर चुके हैं। इस बार भी उन्होंने औषधी पौधों का वृक्षारोपण किया है।

 

खास बात यह है कि वृक्षारोपण में अधिकांशतः
नीम, पीपल, सहजन, गिलोइ, आंवला, छायादार आदि वृक्ष लगाने के बाद भी उसकी देख-रेख खुद करते हैं। पौधों में पानी और विभिन्न प्रकार आवारा पशुओं से बचाते हुए मौसम की मार से बचाव के लिए देखरेख भी करते हैं।
श्री पांडे विभिन्न क्षेत्रों में व्यवसाय करके जहां प्रदेश के विकास में भी अपना योगदान दे रहे हैं वहीं प्रदेश में बेरोजगारों को रोजगार भी दिया करते हैं। उनका मानना है कि देश में बेरोजगारी घटेगी तभी उनका मिशन सफल होगा और प्रदेश के विकास में उनका भी अहम योगदान हो करके उत्तर प्रदेश प्रगति के मार्ग पर चलेगा। जिससे कि उत्तर प्रदेश पलायन भी रुकेगा।
उत्तर प्रदेश के युवा उद्योगपति व समाजसेवी एवं पर्यावरण विद् आकाश पांडे जो कि विभिन्न प्रकार की समाज सेवी, पर्यावरण संस्थानों एवं प्रशासनिक अधिकारियों से उत्कृष्ट कार्य हेतु सम्मानित होते रहे हैं।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.