बेंगलुरू: कर्नाटक में नेतृत्व परिवर्तन की चर्चा के बीच अब दलित मुख्यमंत्री की नियुक्ति पर चर्चा हो रही है. इसको लेकर मुख्यमंत्री बीएस येदयुरप्पा का बड़ा बयान आया है. सीएम येदयुरप्पा ने कहा है कि हाईकमान से मुझे शाम तक सुझाव मिलने की उम्‍मीद है. इससे पहले कल येदयुरप्पा ने कहा था कि मुख्यमंत्री का कार्यभार संभालने के बाद पहले दिन से ही उन्हें कई प्रकार की चुनौतियों का सामना करना पड़ा है.
दरअसल आज येदयुरप्पा से जब मीडिया ने दलित मुख्‍यमंत्री नियुक्‍त किए जाने को लेकर सवाल पूछा तो येदियुरप्‍पा ने कहा, ‘’मुझे शाम तक हाईकमान से सुझाव की उम्‍मीद है. आपको भी पता चल जाएगा कि क्‍या होगा. हाईकमान इस बारे में तय करेगा. मुझे इसकी चिंता नहीं है.’’

येदियुरप्पा की जगह लेने के संबंध में कोई बात नहीं हुई- जोशी
वहीं, दूसरी ओर केंद्रीय कोयला, खनन और संसदीय कार्य मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा है कि बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने उनसे कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा का स्थान लेने के बारे में कोई बात नहीं की है. उन्होंने कहा कि केवल मीडिया ही इस बारे में बात कर रहा है. जोशी ने हालांकि कहा कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि केन्द्रीय नेतृत्व ने येदियुरप्पा से इस्तीफा देने के लिए कहा है. उन्होंने इस बात पर जोर देते हुए कहा कि पार्टी अध्यक्ष जे पी नड्डा के नेतृत्व में बीजेपी नेतृत्व के अलावा ‘सर्वोच्च नेता’ प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ही इस बारे में फैसला करेंगे.
येदियुरप्पा का इस्तीफा देना तय
सोमवार को पद पर उनका आखिरी दिन होने का संकेत देते हुए येदियुरप्पा ने हाल में कहा था कि वह 25 जुलाई को बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व से मिलने वाले निर्देश के आधार पर वह 26 जुलाई से ‘अपना काम’ शुरू करेंगे. सोमवार 26 जुलाई को येदियुरप्पा सरकार के दो साल पूरे हो रहे हैं.
शिकारीपुरा सीट से 8 बार जीते हैं येदयुरप्पा
गौरतलब है कि शिकारीपुरा में पुरसभा अध्यक्ष के रूप में अपना राजनीतिक जीवन शुरू करने वाले येदियुरप्पा पहली बार साल 1983 में शिकारीपुरा सीट से विधानसभा के लिए चुने गए थे और वहां से आठ बार जीते हैं.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.