कानपुर: कानपुर महानगर (kanpur mahanagar) में बीते दिनों पकड़े गए फर्जी पुलिस गैंग के मामले में एक नया खुलासा हुआ है. पता चला है कि फर्जी पुलिस गैंग में कुख्यात अपराधी विकास दुबे (vikas dubey) का भांजा गगन तिवारी भी शामिल था. गगन तिवारी को पुलिस ने दो अन्य अपराधियों के साथ गिरफ्तार किया था. ये लोग फर्जी पुलिस बनकर लोगों से ठगी का काम करते थे.
बता दें कि बीते दिनों कल्याणपुर थाना क्षेत्र में तीन युवक पुलिस की वर्दी पहनकर स्कॉर्पियो गाड़ी पर सवार होकर ट्रकों से पैसे वसूल रहे थे. जब इसकी सूचना स्थानीय पुलिस को हुई तो पुलिस मौके पर पहुंच गई. पुलिस को देख यह तीनों वहां से भाग निकले. पूरे शहर में फर्जी पुलिस की सूचना मिलते ही सभी थानों की फोर्स अलर्ट मोड पर आ गई. इस दैरान स्वरूप नगर पुलिस ने इन तीनों फर्जी पुलिस कर्मियों को गिरफ्तार कर लिया.
वहीं जब पुलिस ने जांच की तो यह बात सामने आई कि फर्जी पुलिस के गैंग में बिकरू कांड (bikru kand) का मुख्य आरोपी कुख्यात विकास दुबे का भांजा गगन तिवारी भी शामिल है, जिसके बाद पुलिस ने बिकरू कांड में गगन की भूमिका की जांच भी शुरू कर दी है. बता दें कि गगन तिवारी विकास दुबे के बहनोई कमलेश तिवारी का बेटा है. विकास दुबे के कहने पर पहले भी गगन ने रिश्ते के भाई पर हमला किया था.
अब कानपुर पुलिस हमले की रात में गगन की भूमिका पर भी जांच कर रही है. कानपुर पुलिस को शक है कि कहीं बिकरू कांड वाली रात को गगन भी पुलिसकर्मियों पर हमला करने में शामिल नहीं था. गगन तिवारी शिवराजपुर थाना क्षेत्र के रामपुर सकरेज का रहने वाला है.
जानें क्या है बिकरू कांड
कानपुर के चौबेपुर के बिकरू गांव में दो जुलाई 2020 की देर रात को दबिश पर गई पुलिस टीम पर गैंगस्टर विकास दुबे और उसके गुर्गों ने ताबड़तोड़ फायरिंग कर दी थी. इसमें सीओ समेत आठ पुलिसकर्मियों की मौत हो गई थी. घटना को अंजाम देने के बाद ही विकास दुबे रात में ही भागकर अपने सहयोगियों के पास जाकर छिप गया था. घटना के करीब एक सप्ताह के बाद ही मध्य प्रदेश पुलिस ने विकास दुबे को महाकाल मंदिर से पकड़कर यूपी एसटीएफ के सुपुर्द किया था.
मध्य प्रदेश से कानपुर लाते समय गाड़ी पलट जाने पर विकास ने भागने की कोशिश की और मुठभेड़ में मारा गया था, जबकि उसके कई साथी मुठभेड़ में मारे जा चुके हैं. वहीं अब विकास दुबे का भांजा भी पुलिस की पकड़ में आया है, जो फर्जी पुलिसकर्मी बनकर लोगों से वसूली करता था. पुलिस को शक है कि कहीं बिकरू कांड वाली रात को गगन भी पुलिसकर्मियों पर हमला करने में शामिल नहीं था. पुलिस इसकी जांच कर रही है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.