मुकुल रॉय बीजेपी का दामन छोड़ते हुए शुक्रवार को अपने बेटे शुभ्रांशु रॉय के साथ तृणमूल कांग्रस में शामिल हो गए. पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी के लिए इसे एक बड़ा झटका माना जा रहा है. उन्होंने राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की मौजूदगी में टीएमसी भवन में तृणमूल कांग्रेस ज्वाइन किया. इस मौके पर बंगाल की सीएम ने कहा कि मुकुल हमारे परिवार के सदस्य हैं और उनका यह घर वापसी है.
ममता बोली- मुकुल रॉय ने कभी खिलाफ नहीं बोला
ममता बनर्जी ने कहा कि मुकुल रॉय ने विधानसभा चुनाव से पहले एक भी शब्द हमारी पार्टी के खिलाफ नहीं बोला है. उन्होंने कहा कि हम मुकुल रॉय का स्वागत करते हैं. वह पार्टी के अंदर महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे. ममता ने कहा कि बीजेपी लोकतांत्रिक पार्टी नहीं है. बीजेपी जमींदार की पार्टी है. ओल्ड हमेशा गोल्ड होता है. ममता बनर्जी ने यहां तक आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी में मुकुल रॉय को धमकाया गया, इसकी वजह से उनकी सेहत पर असर पड़ा है.
मुकुल रॉय बोले- बीजेपी में कोई नहीं रहेगा
इधर, टीएमसी में शामिल होने के बाद मुकुल रॉय ने कहा- मैं बीजेपी छोड़कर टीएमसी में आया हूं. अभी बंगाल में जो स्थिति है उस स्थिति में बीजेपी में कोई नहीं रहेगा. बंगाल अपनी जगह पर लौटेगा. मुकुल ने आगे कहा कि दोबारा टीएमसी में वापसी करते हुए अच्छा महसूस कर रहा हूं. अब देखते हैं कि और कितने बीजेपी नेता फिर से टीएमसी ज्वाइन करते हैं.
गौरतलब है कि मुकुल रॉय ने 2017 के नवंबर में बीजेपी को ज्वाइन किया था. जिस वक्त वह भगवा पार्टी में आए उस समय टीएमसी में नंबर 2 पॉजिशन पर थे और संस्थापक सदस्यों में से एक थे. हालांकि, बीजेपी में आने के बाद उन्होंने इसका बंगाल में दायरा काफी बढ़ाया था. लोकसभा चुनाव 2019 में बीजेपी को बंगाल में मिली शानदार सफलता के पीछे भी मुकुल रॉय को ही श्रेय दिया जाता है. लेकिन, पार्टी में लगातार हो रही उपेक्षाओं की वजह से वह बीजेपी से नाराज चल रहे थे.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.