रायपुरः छत्तीसगढ़ पुलिस ने ‘टूलकिट’  मामले पर बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा को तलब किया है. उन्हें 23 मई यानी आज शाम 4 बजे रायपुर के सिविल लाइन थाने में रिपोर्ट करने को कहा गया है. कांग्रेस की स्टूडेंट विंग एनएसयूआई ने रायपुर में टूलकिट मामले को लेकर छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह और पात्रा के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई थी. इसमें एआईसीसी रिसर्च डिपार्टमेंट लेटरहेड पर कथित रूप से झूठा और मनगढ़ंत कंटेंट छापने का आरोप लगाया गया है. छत्तीसगढ़ पुलिस ने संबित पात्रा को थाने में व्यक्तिगत या  वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उपस्थित होने के लिए कहा है  और उपस्थित नहीं होने पर कानूनी कार्रवाई की चेतावनी दी है.
फर्जी लेटरहेड का इस्तेमाल कर झूठा कंटेंट छापने का आरोप
भारतीय राष्ट्रीय छात्र संघ (एनसएयूआई) के प्रदेश अध्यक्ष आकाश शर्मा की शिकायत पर 19 मई को सिविल लाइंस थाने में ‘फर्जी खबर फैलाने’ और ‘वर्गों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देने’ का मामला दर्ज किया गया था. शर्मा ने आरोप लगाया कि भाजपा नेताओं ने नकली लेटरहेड का उपयोग करके मनगढ़ंत कंटेंट प्रसारित किया. शर्मा ने आरोप लगाया कि इस फर्जी कंटेंट को फैलाने का उद्देश्य कोरोना वायरस महामारी के दौरान लोगों की मदद करने में मोदी सरकार की भारी विफलता से ध्यान हटाना था. आईपीसी की धारा 469, 504 , 505 (1) (बी) के तहत मामला दर्ज किया गया था.
बीजेपी ने कहा- कांग्रेस फेस सेविंग की कर रही कोशिश  
वहीं, राज्य में विपक्षी दल बीजेपी ने कहा कि एफआईआर दर्ज कराकर अपना चेहरा बचाने की कांग्रेस की कोशिश से काम नहीं चलेगा. भाजपा के वरिष्ठ विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि कांग्रेस ने कथित तौर पर प्रधानमंत्री और देश को बदनाम करने के लिए एक टूलकिट बनाया है. उन्होंने कहा कि जब इसका खुलासा हुआ तो यह एफआईआर दर्ज करा अपना चेहरा बचाने की कोशिश की गई.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.