नई दिल्ली: कोरोना संकट पर पीएम मोदी इस वक्त एक उच्‍चस्‍तरीय बैठक की अध्‍यक्षता कर रहे हैं. वर्चुअल हो रही इस अहम बैठक में कोरोना के ताजा हालात और टीकाकरण की स्थिति पर चर्चा हो रही है. इस बैठक में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह, केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री डॉ हर्षवर्धन और इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) के वैज्ञानिक भी मौजूद हैं.
पीएम मोदी ने एक दिन पहले शुक्रवार को सभी राज्यों को ऑक्सीजन सिलेंडर के जमाखोरों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने का निर्देश दिया था. प्रधानमंत्री ने उस समय पर इन जमाखोरों के खिलाफ ऐसे कामों में लिप्त होने के लिए असंतोष व्यक्त किया, जब भारतीय सशस्त्र बल की तीनों भारतीय सेना, भारतीय नौसेना और भारतीय वायुसेना कोविड संकट के बीच मानव सेवा में लगी हुई है.
मोदी ने कहा, हमारे तीन सशस्त्र बल जरूरतमंदों की सेवा करने की कोशिश कर रहे हैं और कोविड संकट के बीच ऑक्सीजन ट्रेनें लगातार ऑक्सीजन सिलेंडर भेज रही हैं. लेकिन ऐसे कई लोग हैं, जो ऑक्सीजन की जमाखोरी में शामिल हैं. राज्यों को ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करनी चाहिए.
मोदी ने ग्रामीणों के साथ-साथ ग्राम पंचायतों से जुड़े लोगों से भी अपील की कि वे मास्क का उपयोग करें, कोविड के प्रत्येक लक्षण को गंभीरता से लें, कोविड परीक्षण के लिए जाएं, कोविड की रिपोर्ट नेगेटिव आने तक विशेष सावधानी बरतें वैक्सीन भी लगवाएं. मोदी ने कहा कि कोरोना को हराने के लिए लोगों की भागीदारी जरूरी है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.