लखनऊ: चित्रकूट जेल में कैदियों के बीच गैंगवार की खूनी वारदात में तीन की मौत के बाद बाहुबली विधायक व बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी के बड़े भाई गाजीपुर से सांसद अफजाल अंसारी ने यूपी सरकार की कानून-व्यवस्था पर गंभीर सवाल उठाए हैं. अफजाल अंसारी ने कहा कि पहले गली शहरों, मोहल्लों, चौराहों पर गैंगवार होती थी, अब जेलों में हो रही है. यही यूपी सरकार की व्यवस्था है. जब इस तरह की घटनाएं होने लगें तो चिंता बढ़ जाती है. उन्होंने आशंका जताई है कि मुख्तार पर भी बांदा जेल में हमला हो सकता है.
दरअसल, यूपी के गैंगस्टर अंशु दीक्षित ने मुख्तार अंसारी के खास गुर्गे मेराज और मुकीम काला की गोली मारकर हत्या कर दी. बाद में पुलिस ने एनकाउंर में अंशुल को ढेर कर दिया. मेराज अहमद को बसपा के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी का करीबी माना जाता था. इसलिए जेल के भीतर हुए इस गैंगवार के बाद यूपी के बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी का परिवार भी सहम गया है. इस घटना के बाद सांसद अफजाल अंसारी ने अपने भाई मुख्तार अंसारी की सुरक्षा बढ़ाने की मांग की है.
जेल में हुई घटना डर का माहौल पैदा करती है
मुख्तार अंसारी के बड़े भाई अफजाल अंसारी ने कहा कि जेल के भीतर गैंगवार पहली बार सुन रहा हूं. खेत में, गलियों में और सड़कों पर गैंगवार सुना है, लेकिन जेल के भीतर इस तरह की बात पहली बार सुन रहा हूं. ऐसा कहा जाता है कि यूपी में जेल की व्यवस्थाएं चाक चौबंद हैं. बावजूद इस तरह की घटनाएं होने से डर का माहौल पैदा हो जाता है.
मुख्तार की जान खतरे में, कई बार उठाया सुरक्षा का मुद्दा
अफजाल अंसारी से यह पूछे जाने पर कि क्या बांदा जेल में बंद मुख्तार अंसारी की सुरक्षा को लेकर वह और उनका परिवार चिंतित है. इस सवाल के जवाब में अफजाल ने कहा, ” मैं और मेरा परिवार क्या? खुद मुख्तार ही हमेशा पेशी के दौरान और वीडियो कांफ्रेंसिंग के दौरान सुरक्षा की गुहार लगाते रहते हैं. जाहिर सी बात है. सुरक्षा को लेकर तो वह खुद ही कई बार बोल चुके हैं.”
सरकार का जेलों की सुरक्षा दुरुस्त का दावा खोखला
चित्रकूट में हुई घटना के बारे में पूछे जाने पर अफजाल ने कहा, ”आज तो ईद का त्यौहार है. सुबह से ही लोग घर पर मिलने के लिए आ रहे हैं. घटना की सूचना आपके ही माध्यम से मिली है. अभी जानकारी करुंगा कि क्या-क्या हुआ है. सरकार दावा करती है कि जेलों की सुरक्षा दुरुस्त है, लेकिन इस तरह की घटनाएं व्यवस्था की पोल खोलती हैं”
मनमानी की तो तानाशाहों का अंत नजदीक
इससे पहले भी अफजाल अंसारी ने उस समय चिंता व्यक्त की थी, जब मुख्तार अंसारी को पंजाब की रोपड़ जेल से बांदा जेल लाया जा रह था. तब अफजाल असांरी ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार पर हमला बोलते हुए कहा था कि यदि वे मनमाने ढंग से कुछ करते हैं, तो ऐसे तानाशाहों का अंत का समय निकट है. तानाशाही खत्म करने के लिए बलिदान की जरूरत है. अगर ऐसा कुछ होता है, तो मैं विचार करूंगा कि तानाशाह सरकार के अंत के लिए मुख्तार की बलि दी गई है.
पहले भी मुख्तार को जान से मारने की की गई थी कोशिश
अफजाल ने कहा कि जिस बांदा जेल में मुख्तार को शिफ्ट किया जा रहा है, वहां पहले भी उन्हें चाय में जहर देकर मारने की कोशिश हो चुकी है. उन्हें न्यायपालिका पर तो पूरा भरोसा है, लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार की नीयत पर उन्हें भरोसा नहीं है. हम सुप्रीम कोर्ट से चिकित्सा सुविधाएं मुहैया कराने की गुहार लगा चुके हैं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.