लखनऊ : यूपी में कोरोना से निपटने के लिए ‘ ट्रेस, टेस्ट ट्रीट’ का फार्मूला अपनाया जा रहा है. इसका मकसद समय पर मरीजों में संक्रमण की पहचान कर उसका इलाज करना है. ऐसे में राज्य में रिकॉर्ड तोड़ टेस्टिंग की गई. वर्तमान में प्रदेश सबसे अधिक टेस्ट करने वाला राज्य बन गया है.
एक मई को सबसे ज्यादा टेस्ट का रहा रिकार्ड
मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार मृत्युंजय कुमार ने सोमवार को कोरोना से संबंधित जानकारी सोशल मीडिया पर दी. इसमें उन्होंने बताया की उत्तर प्रदेश देश में सबसे अधिक चार करोड़ से ज्यादा कोरोना टेस्ट करने वाला राज्य है. वहीं एक मई को सर्वाधिक 2 लाख 96 हजार 973 टेस्ट किए गए. इसमें 1 लाख 28 हजार, 787 आरटीपीसीआर, 1 लाख 63 हजार 134 एंटीजन और 5052 ट्रूनेट से टेस्ट किए गए. अब तक कुल चार करोड़, 13 लाख, 62 हजार, 046 टेस्ट किए गए हैं.

2.5 लाख आरटीपीसीआर का रोजाना लक्ष्य

प्रदेश में सरकरी 125 लैब और निजी क्षेत्र में 104 लैब क्रियाशील हैं. इसमें अभी डेढ़ लाख के करीब आरटीपीसीआर टेस्ट करने की क्षमता है. ऐसे में सरकार जहां इन लैब को अपग्रेड कर रही है, वहीं 60 नई आरटीपीसीआर मशीनों का ऑर्डर भेजा है. इसके लिए 500 डॉक्टर, टेक्नीशियन और अन्य स्टाफ को भी तैनात किया जाएगा. वहीं रोज 2.5 लाख टेस्ट की क्षमता विकसित की जाएगी.

10 लाख लोगों ने अब तक कोरोना वायरस को हराया

प्रदेश में अब तक 10 लाख 4 हजार 447 लोग कोरोना के संक्रमण से मुक्‍त हो चुके हैं. वहीं 13 हजार 162 लोगों की मृत्‍यु हुई है. प्रदेश में संक्रमण दर 26 अप्रैल को 18 फीसद थी, जबकि 30 अप्रैल को घटकर यह 14.18 फीसद हो गई है. इसके अलावा मृत्यु दर में इजाफा हुआ है. मृत्यु दर अब 0.74 से बढ़कर 0.95 हो गई है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.