मध्यप्रदेश के सभी शहरी क्षेत्रों में कोरोनोवायरस के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए शुक्रवार शाम 6 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक पूर्ण लॉकडाउन लगाया गया है.मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुए ही शहरी क्षेत्रों में दो दिन का लॉकडाउन लगाया गया है. शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि वे लॉकडाउन नहीं चाहते थे लेकिन मौजूदा हालातों को देखते हुए सरकार को ये फैसला लेना पड़ा है. बता दें कि इससे पहले छिंदवाड़ा, शाजापुर समेत कई अन्य जगह़ों पर लॉकडाउन लगाया गया है. वहीं लॉकडाउन के दौरान वैक्सीनेशन का कार्यक्रम चलता रहेगा.
अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या 1 लाख की जाएगी
इसी के साथ सीएम ने ये भी कहा कि बड़े शहरों में कंटेन्मेंट जोन भी बनाए जाएंगे. इन कंटेन्मेंट जोनों में भी लॉकाउ लगाया जाएगा. वहीं सीएम ने ये भी कहा कि राज्य में अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या को बढ़ाकर 1 लाख किया जाएगा. गौरतलब है कि ऑक्सीजन की कमी की वजह से पीछले 48 घंटों में सागर जिले में 4 और खरगोन में एक कोरोना मरीज की मौत हो गई है. जिसके बाद प्रदेश सरकार ने आक्सीन की कमी को पूरा करने की खातिर भिलाई स्टील प्लांट से करार किया है. जहां से अब प्रतिदिन 60 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति की जाएगी.,
पांच दिन खुलेंगे सरकारी कार्यालय
कोरोना के बढ़ते हुए मामलों को देखते हुई सरकार ने सभी सरकारी कार्यालयों को सप्ताह में पांच दिन खोलने का आदेश जारी  किया है.  सरकारी दफ्तर सुबह के 10 बजे से शाम 6 बजे तक खोले जाएंगें. यानी इस आदेश के बाद शनिवार और रविवार को सरकारी दफ्तर बंद रहेंगे.
मुख्यमंत्री कार्यालय की तरह से किया गया ट्वीट
वहीं राज्य में कोरोना की भयंकर स्थिति को देखते हुए मुख्यमंत्री कार्यालय ने लोगों को जागरूक करने के उद्देश्य से  हिंदी में ट्वीट भी किया है. ट्वीट में लिखा गया है कि , “महामारी को देखते हुए, फेस मास्क का उपयोग अवश्य करें, सामाजिक दूरी बनाए रखें और हाथों को बार-बार साफ करें.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.