दिवाकर श्रीवास्तव

कानपुर। कहते हैं ना कि प्रतिभा किसी अमीर की जायदाद नहीं यह हर घर में हो सकती है चाहे वह गरीब हो या अमीर, प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं रहती। इस को साबित किया है कानपुर के नवाबगंज इलाके में रहने वाली कनिष्का त्रिवेदी ने।
कनिष्का के पिता राजेश त्रिवेदी मुंबई भेलपुरी की दुकान में एक कर्मचारी है। एक निम्न मध्यमवर्गीय संयुक्त परिवार में कनिष्का पैदा हुई। कक्षा 6 से ही इसने ठान लिया था कि भविष्य में कुछ ना कुछ मुकाम हासिल करेगी और इसने तभी से ही कत्थक नृत्य सीखना शुरू कर दिया।

कनिष्का ने इंटर तक की पढ़ाई नवाबगंज इलाके के दुर्गावती गर्ल्स इंटर कॉलेज से की फिर उसके बाद लखनऊ स्थित भातखंडे कॉलेज से कत्थक में ग्रेजुएशन कर रही है। कनिष्का ने नृत्य में कई प्रतियोगिताएं जीती। अचानक से इसके मन में मॉडलिंग का शौक उभर कर आया।

कानपुर स्तर की कई मॉडलिंग की प्रतियोगिताओं में इसने जीत हासिल की तो इसमें आगे बढ़ने की एक ललक उभर कर आई। 2019 में कनिष्का ने मिस नॉर्थ इंडिया का खिताब जीता। इसके बाद 2021 में मिस इंडिया यूनिवर्स का खिताब अपने नाम किया और तत्काल में इसने मिस इंडिया ग्लोबस का खिताब जीता।
कनिष्का का आगे का विचार है कि उसने मॉडलिंग में बहुत कुछ हासिल कर लिया अब वह केवल भातखंडे कॉलेज से कत्थक की डिग्री हासिल करके अपना इंस्टिट्यूट खोलेगी और बच्चों को निशुल्क कत्थक सिखाएगी।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.