तिरुवनंतपुरम : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केरल के पतनमतिट्टा में जनसभा को संबोधित किया. जनसभा में अपार जनसमूह को देखकर प्रधानमंत्री ने कहा कि दिल्ली में बैठकर जो पॉलिटिकल पंडित केरल के चुनाव का विश्लेषण कर रहे हैं, जब तक वो ये दृश्य (जनसभा में जमा भीड़) नहीं देखेंगे उनको समझ नहीं आएगा कि हवा कैसे बदल चुकी है.
प्रधानमंत्री ने कहा कि मेट्रो मैन श्रीधरन जैसे सम्मानित प्रोफेशनल की सक्रिय भूमिका केरल की राजनीति में एक गेम चेंजर रही है.
उन्होंने कहा कि एक व्यक्ति जिसने सालों तक इतना सब हासिल किया हो, जिसने भारत की प्रगति को गति दी हो, उसने समाज की सेवा करने के लिए बीजेपी को चुना. केरल ने इस बार बीजेपी और एनडीए को चुना है.
मोदी ने कहा कि मैं आज केरल में एक समान भावना देख रहा हूं … लोग भाजपा के विकास के एजेंडे को देख रहे हैं, वे हमारी नीतियों से संबंधित हैं.
उन्होंने कहा कि केरल में पीने के पानी की उपलब्धता एक समस्या है. जब NDA सरकार ने जल जीवन मिशन शुरू किया था तब केरल के सिर्फ 25% घरों तक नल से जल की आपूर्ति थी. जब से ये मिशन शुरू हुआ तब से देश में करीब 20% घरों को नल से जल की कनेक्टिविटी मिली है.
मोदी ने कहा कि एलडीएफ ने क्या किया है? सबसे पहले उन्होंने केरल की छवि को विकृत करने की कोशिश की, फिर उन्होंने अपने एजेंटों के माध्यम से पवित्र स्थानों को नष्ट कर दिया. भगवान अयप्पा के भक्तों का स्वागत फूल मालाओं के साथ किया जाना चाहिए था, वे अपराधी नहीं हैं .
प्रधानमंत्री ने कहा कि वे ( एलडीएफ और यूडीएफ) वंशवाद की राजनीति को बढ़ावा देते हैं, दोनों गठबंधनों में वंशवाद के शासन का क्रेज है, बाकी सब दरकिनार है … एलडीएफ के एक शीर्ष नेता के बेटे का मामला सर्वविदित है, मैं आगे विस्तार नहीं करना चाहता.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.