लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बुधवार को यहां उनके सरकारी आवास पर भारत में सूरीनाम गणराज्य की राजदूत आशना कन्हाई ने शिष्टाचार भेंट की. इस अवसर पर सूरीनाम और भारत, विशेष रूप से उत्तर प्रदेश के मध्य सम्बन्धों को और प्रगाढ़ करने के सम्बन्ध में विचार-विमर्श किया गया. उन्होंने कहा कि सूरीनाम और उत्तर प्रदेश के ऐतिहासिक, सांस्कृतिक तथा आध्यात्मिक सम्बन्ध सुदृढ़ रहे हैं. दोनों देशों के लोगों और उनके पूर्वजों के माध्यम से सूरीनाम और उत्तर प्रदेश का हमेशा से गहरा रिश्ता रहा है.
विभिन्न क्षेत्रों में यूपी-सूरीनाम मिलकर कर सकते हैं काम
भेंट के दौरान सूरीनाम की राजदूत आशना कन्हाई ने कहा कि उत्तर प्रदेश सहित सम्पूर्ण भारत की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत है. कृषि विकास और संस्कृति के क्षेत्र में सूरीनाम और उत्तर प्रदेश परस्पर मिलकर कार्य कर सकते हैं. सूरीनाम के निवासियों की जड़ों व उनके पूर्वजों से सम्बन्धित स्थलों की खोज के लिए भी उल्लेखनीय कार्य किये जा सकते हैं. इसी प्रकार सिस्टर सिटी और स्टेट के सम्बन्ध में भी कार्य किया जा सकता है. उन्होंने इन कार्याें में सहयोग की बात कही.
यूपी में पर्यटन की अपार संभावनाएं
मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि इस दिशा में उत्तर प्रदेश में महत्वपूर्ण कार्य किये गये हैं. सूरीनाम और उत्तर प्रदेश के रिश्तों को और प्रगाढ़ बनाये जाने का कार्य किया जाएगा. उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में पर्यटन की अपार सम्भावनाएं हैं. राज्य में वाराणसी, अयोध्या, मथुरा, प्रयागराज आदि तीर्थ स्थल हैं. ईको-टूरिज्म की दृष्टि से अनेक रमणीक स्थल, समृद्ध ऐतिहासिक विरासत तथा विविधतापूर्ण संस्कृति पर्यटकों को आकर्षित करती हैं. प्रयागराज कुम्भ-2019 के सफल आयोजन की देश-विदेश में सराहना की गई.
निवेश के लिए माहौल
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा निवेश को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से विभिन्न सेक्टोरल पॉलिसियां निर्धारित की गई हैं. प्रदेश में विदेशों से निवेश को आकर्षित करने के लिए सकारात्मक माहौल स्थापित किया गया है. ‘ईज ऑफ डुइंग बिजनेस’ रैंकिंग में उत्तर प्रदेश का पूरे देश में दूसरा स्थान है. उन्होंने कहा कि प्रदेश में अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे स्थापित किए जा रहे हैं. प्रदेश के पूर्वांचल क्षेत्र स्थित कुशीनगर में एक अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा विकसित किया जा रहा है. दूसरा अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा-नोएडा इण्टरनेशनल एयरपोर्ट एनसीआर के जेवर में विकसित किया जा रहा है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.