होम उत्तर प्रदेश आयशा की मौत के बाद दहेज के खिलाफ उठी आवाज, लखनऊ में...

आयशा की मौत के बाद दहेज के खिलाफ उठी आवाज, लखनऊ में जुमे की नमाज के बाद धर्मगुरू ने की अपील

37
लखनऊ के ऐशबाग ईदगाह में आज मौलाना ख़ालिद रशीद फ़िरंगी महली ने जुमे की नमाज़ के दौरान तक़रीर में दहेज को न केवल नाजायज़ बल्कि हराम बताया. मौलाना ने यह भी कहा कि जिस तरह आयशा ने दहेज को लेकर अपनी जान दे दी, वह दुखद है. इस्लाम में इसकी कोई जगह नहीं है. हमारे यहां दहेज न केवल नाजायज़ है, बल्कि हराम है. ये शर्मनाक है कोई व्यक्ति अपनी पत्नी या अपने ससुरालवालों से भीख मांगता है. अगर कोई व्यक्ति ऐसा करेगा तो उसका सोशल बायकाट किया जाएगा.
इससे पहले पति की प्रताड़ना से तंग आकर अहमदाबाद की साबरमती नदी में कूदकर जान देने वाली आयशा की मौत के बाद ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएएम) चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने भी कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी. उन्होंने कहा कि मैं आप तमाम से अपील कर रहा हूं चाहे आप कोई भी मजहब से हों दहेज की लालच को खत्म करो. इस दौरान उन्होंने कहा कि मैं उन तमाम मुसलमानों से अपील कर रहा हूं अल्लाह के रसूल सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम (पैगंबर मोहम्मद) ने इरशाद फरमाया था कि तुममे सबसे बेहतरीन वो है जो अपने घरवालों से अच्छा व्यवहार करे.
ओवैसी ने कहा, ”अहमदाबाद में जो मुसलमान बच्ची का दर्दनाक वीडियो आया है जिसने खुदकुशी कर ली. मैं आप तमाम से अपील कर रहा हूं चाहे आप कोई भी मजहब से हों दहेज की लालच को खत्म करो. अगर तुम मर्द हो तो बीवी पर जुल्म करना मर्दानगी नहीं है. बीवी को मारना मर्दानगी नहीं है. बीवी से पैसों मुतालबा (मांग) करना मर्दानगी नहीं है. तुम मर्द कहलाने के लायक नहीं हो अगर ऐसी हरकत करोगे.”

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.