प्रयागराज: जिले में एसटीएफ की प्रयागराज यूनिट और बदमाशों के बीच मुठभेड़ हो गई, जिसके बाद एसटीएफ की जवाबी फायारिंग में दो शातिर बदमाश मारे गए. मारे गए दोनों बदमाशों के ऊपर इनाम घोषित था. मुठभेड़ में ढेर हुए दोनों बदमाश मुख्तार अंसारी और मुन्ना बजरंगी गैंग के शूटर थे. इन दिनों ये दोनों प्रयागराज के पूर्व ब्लॉक प्रमुख दिलीप मिश्रा के संपर्क में थे.
नैनी थाना क्षेत्र के अरैल में हुई मुठभेड़
प्रयागराज के नैनी थाना क्षेत्र के अरैल इलाके में भोर में एसटीएफ प्रयागराज यूनिट दो शूटरों को पकड़ने के लिये पहुंची थी .जैसे ही शूटरों को आता देख पुलसि ने उन्हें रुकने का इशारा किया. दोनों बदमाश यमुना के कछार की तरफ भागने लगे, जिसके बाद एसटीएफ की टीम ने भी उनका पीछा शुरु किया. एसटीएफ के पीछा करने पर बदमाशों पर उन पर फायर करना शुरू कर दिया, जिसके बाद एसटीएफ की टीम ने अपना बचाव करते हुये बदमाशों पर जवाबी फायरिंग की. एसटीएफ की जवाबी फायरिंग में गोली लगने से दोनों बदमाश ढेर हो गए.मारे गये बदमाश पर था 50 हजार का इनामएसटीएफ से मुठभेड़ में मारे गये दोनों बदमाश भदोही जिले के रहने वाले थे, जिनमें से एक का नाम वकील पांडेय उर्फ राजू पांडेय था, जिसके ऊपर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित था. मृतक बदमाश पर ये इनाम प्रयागराज पुलिस द्वारा ही घोषित किया गया था. वहीं उसके साथ मुठभेड़ में मारा गया उसका साथी अमजद उर्फ पिंटू था. दोनों ही शातिर किस्म के अपराधी थे. उनके खिलाफ कई आपराधिक मुकदमे दर्ज थे.मुन्ना बजरंगी और मुख्तार गैंग के दोनों शूटर थे
एसटीएफ के साथ मुठभेड़ में मारे गये दोनों ही बदमाश शातिर किस्म के अपराधी थे. दोनों मिलकर मुन्ना बजरंगी और मुख्तार अंसारी गैंग के लिये काम करते थे. मुन्ना बजंरगी की मौत के बाद ये दोनों प्रयागराज के पूर्व ब्लॉक प्रमुख दिलीप मिश्रा के संपर्क थे .इन दिनों दिलीप मिश्रा भी जेल में बंद हैं, जिसके बाद इनका संपर्क रांची जेल में बंद शातिर बदमाश अमन सिंह के साथ हो गया.रांची के होटवार जेल के अधिकारी की हत्या करने की ली थी सुपारी
रांची के जेल अधिकारी को मारने की सुपारी ली थी
मुठभेड़ में मारे गये दोनों बदमाश मुन्ना बजरंगी गैंग के शूटर थे. इन दोनों ने रांची के होटवार जेल के किसी अधिकारी को मारने की सुपारी ली थी. होटवार जेल में बंद अमन सिंह के कहने पर दोनों जेल के अधिकारी को मारने की योजना बना चुके थे. अमन सिंह रांची के कोयला व्यापारी व नेता नीरज सिंह की हत्या के आरोप में जेल में बंद है, जहां से वह अपना दबदबा कायम करने के लिये किसी जेल अधिकारी को मरवाने की सुपारी इन दोनों को दे चुका था. उसी वारदात को अंजाम देने के लिये दोनों रांची जाने वाले थे. रांची जाने से पहले इन दोनों ने प्रयागराज के किसी नेता या संभ्रांत व्यक्ति को मारने की योजना बनायी थी. उसी को अंजाम देने के बाद दोनों को रांची जाना था. एसटीएफ को जब इस बात की जानकारी मिली तो दोनों को पकड़ने के लिये उनकी टीम ने घेराबंदी की थी, जिसके बाद बुधवार की आधी रात के बाद दोनों को जाता देखा गया, जैसे ही पुलिस टीम ने रुकने का इशारा किया, दोनों ने पुलिस वालों पर फायर कर दिया जिसके बाद जवाबी फायरिंग में दोनों शातिर अपराधी ढेर हो गए.
वाराणसी में जेलर अनिल त्यागी की हत्या की थी
एसटीएफ के साथ मुठभेड़ में मारे गये दोनों बदमाश प्रोफेशनल किस्म के हत्यारे थे. एसटीएफ के अफसरों के मुताबिक इन्हीं दोनों ने मिलकर 2013 में वाराणसी में जेलर अनिल त्यागी को गोली मारकर मौत के घाट उतारा था. दोनों ने पहले से तय योजना के तहत जेलर अनिल त्यागी जब जिम जा रहे थे उस वक्त उन्हें गोली मारी थी. दोनों की तलाश काफी दिनों से एसटीएफ कर रही थी .एसटीएफ की टीम अब इस बता का पता लगा रही है कि इसके साथ के दूसरे लोग कौन हैं. इन्होंने प्रयागराज में किसको मारने की योजना बनाई थी.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.