लखनऊ के विभूतिखंड इलाके में पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजीत सिंह की हत्या करने के मुख्य आरोपी और कुख्यात शूटर गिरधारी को पुलिस ने एनकाउंटर में मार गिराया है. बताया जा रहा है कि गिरधारी को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस राजधानी के खरगापुर इलाके में हत्या में प्रयुक्त असलहे की तलाश के लिए लेकर पहुंची थी. इसी दौरान गिरधारी ने असलहा छीनकर भागने का प्रयास किया और फिर मुठभेड़ में मारा गया.
पुलिस अभिरक्षा से भागने के दौरान मारा गया गिरधारी

6 जनवरी को विभूति खंड थाना अंतर्गत कठौता चौराहा के पास मऊ के पूर्व ब्लाक प्रमुख अजीत सिंह की गोली मारकर हत्या की गई थी. इस हत्या में आजमगढ़ जेल में बंद कुंटू सिंह, अखंड और गिरधारी विश्वकर्मा नामजद आरोपी थे. गिरधारी ने नाटकीय अंदाज में अपने को दिल्ली पुलिस से गिरफ्तार करवाया था. पुलिस उसे पूछताछ के लिए पुलिस 13 फरवरी को रिमांड पर लेकर आई थी. सोमवार सुबह तड़के गिरधारी ने पुलिस अभिरक्षा से भागने की कोशिश की तो पुलिस ने भी उसे दौड़ाकर पकड़ना चाहा, लेकिन उसने पुलिस पर फायरिंग की इस दौरान पुलिस की तरफ से जवाबी फायरिंग में गिरधारी मारा गया.

एक लाख का था इनाम

गिरधारी विश्वकर्मा के ऊपर वाराणसी पुलिस एक लाख रुपये का इनाम घोषित था. वहीं उससे पूछताछ के लिए वाराणसी पुलिस भी रविवार को विभूति खंड पहुंची थी. वाराणसी में नितेश की हत्या में गिरधारी वांछित था. इस मामले में वाराणसी पुलिस ने भी 1 घंटे तक पूछताछ की थी. इसके पहले भी गिरधारी को रिमांड लेने के लिए वाराणसी पुलिस दिल्ली गई थी, लेकिन रिमांड नहीं मिली थी. गिरधारी के खिलाफ दर्जन भर से ज्यादा आपराधिक मुकदमे दर्ज हैं. इस मुठभेड़ के दौरान उप निरीक्षक अख्तर सईद उस्मानी के मुंह पर चोट आई है. वहीं अनिल सिंह को कंधों में गोली लगी है, जबकि विभूति खंड इस्पेक्टर चंद्रशेखर भी जख्मी हुए हैं.

जेसीपी अपराध नीलाब्जा चौधरी ने बताया कि सोमवार सुबह तड़के गिरधारी विश्वकर्मा को अजीत सिंह हत्याकांड में प्रयुक्त असलहा की बरामदगी के लिए ले जाए जा रहा था. उस दौरान उसने अख्तर सईद उस्मानी को नाक पर मारकर घायल कर दिया और सरकारी असलहा लूटकर भागने लगा. इस दौरान उसे सरेंडर करने को कहा गया लेकिन उसने पुलिस पर ही जवाबी फायरिंग शुरू कर दी. पुलिस ने भी कार्रवाई करते हुए फायरिंग की, जिसमें उसे गोली लग गई, जिसके बाद उसे राम मनोहर लोहिया अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया .इस घटनाक्रम में अख्तर सईद उस्मानी, अनिल सिंह और चंद्रशेखर सिंह भी घायल हुए हैं.
वाराणसी के चर्चित नीतेश सिंह बबलू हत्याकांड में गिरधारी एक लाख का था ईनामी 
लखनऊ में पूर्व ब्लॉक प्रमुख अजित सिंह की हत्या से पहले वाराणसी के सदर तहसील में हुए चर्चित नीतेश सिंह बब्लू हत्याकांड में शूटर गिरधारी विश्वकर्मा उर्फ डॉक्टर वांछित था. उस पर तब एक लाख रुपये इनाम भी घोषित हुआ था. इस मामले में साजिशकर्ता और अन्य बदमाशों के बारे में गिरधारी से कई जानकारियां पता करने के लिए वाराणसी पुलिस रविवार दोपहर को लखनऊ पहुंची थी. वह दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद था. गिरधारी को वाराणसी लाने के लिए शिवपुर थाने की पुलिस ने वारंट बी की अर्जी मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट एसपी सिंह यादव की अदालत में दी थी, जिस पर 22 जनवरी को अदालत ने गिरधारी को तलब किया था.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.