yogpeethउत्तराखंड के टिहरी जिले के देवप्रयाग इलाके में मंगलवार दोपहर एक छात्रा गंगा नदी में डूब गई। अब तक उसका कुछ पता नहीं चल सका है। 21 साल की इस छात्रा का नाम उर्वशी है और वह हरिद्वार में बाबा रामदेव के पतंजलि यूनिवर्सिटी एमएससी की पढ़ाई कर रही है। उसका घर बिजनौर के धामपुर इलाके में है। परिजनों का आरोप है कि यूनिवर्सिटी प्रशासन की लापरवाही से यह हादसा हुआ।
जानकारी के मुताबिकए रामनवमी के दिन देवप्रयाग इलाके में बाबा रामदेव पतंजलि सेवा आश्रम के लिए भूमि पूजन कार्यक्रम में आए थे। उनकी यूनिवर्सिटी से भी काफी स्टूडेंट्स यहां आए थे। कार्यक्रम नदी किनारे चल रहा था तभी अचानक एक छात्रा का पैर फिसल गया। उसे डूबती हुई देखकर उर्वशी बचाने के लिए कूद पड़ी। वह लडक़ी तो बच गई पर उर्वशी कहीं नहीं मिली।
बाबा रामदेव के प्रवक्ता एसके तिजारावाला ने कहा कि रामनवमी के दिन इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए छात्र.छात्राओं में काफी उत्साह था और वे भी आ गए। सभी को बार बार चेताया जा रहा था कि पानी के पास न जाएं। जब एक लडक़ी का पैर फिसला तो उसे बचाने गोताखोर कूद गए थेए लेकिन उत्साह में उर्वशी भी कूद गई। तिजारावाला ने कहा कि यह एक दुखद घटना है। उन्होंने कहा कि आचार्य बालकृष्ण की लडक़ी के परिजनों से बात हुई है और हम लगातार पुलिस के संपर्क में हैं। पुलिस उसे तलाश रही है और गोताखोर लगाए गए हैं।
उर्वशी के परिजन इस घटना को यूनिवर्सिटी की लापरवाही मान रहे हैं। उर्वशी के चाचा अजय कुमार ने कहा कि हमारी शिकायत यह है कि उस कार्यक्रम में स्टूडेंट्स को ले जाने की क्या जरूरत थी। उन्हें ले जाने से पहले पैरंट्स को बताया तक नहीं गया और न ही उनकी इजाजत ली गई। यह यूनिवर्सिटी वालों की लापरवाही है। उन्होंने कहा कि उर्वशी यूनिवर्सिटी के ही हॉस्टल में रहती है। ऐसे में यूनिवर्सिटी की जिम्मेदारी और बढ़ जाती है। अजय ने कहा कि हादसे के बाद भी हमें यूनिवर्सिटी से कोई जानकारी नहीं दी गई। पुलिस वालों का फोन आया तब हमें इस हादसे के बारे में पता चला।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.