लखनऊ। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने भले ही एंटी भू माफिया सेल का गठन किया हो ताकि जमीन के मामलो में फर्जीवाड़ा और धन उगाही पर रोक लगे और पीड़ितों को न्याय मिले। लेकिन गरीबों को न्याय तो दूर बल्कि उन्हें सताने वाला कोई और नहीं बल्कि वर्तमान सरकार के नेता और अधिकारी ही हैं। बख्शी का तालाब तहसील में एक ऐसी ही शिकायत आई है। शिकायत में पीड़ित ने सोसाईटी की भूमि को फर्जी अभिलेखों के सहारे पुनः विक्रय करने एवं सोसाईटी के सदस्यों को प्रताडित कर अवैध वसूली करने का आरोप लगाया है।

सविल कोर्ट लखनऊ के अधिवक्ता सतेन्द्र कुमार के शिकायती पत्र के अनुसार, भूमि खसरा संख्या -64 व 70 क्षेत्रफल 1.6800 हेक्टेयर स्थित भिठौली खुर्द परगना लखनऊ तहसील बक्शी का तालाब बैनामा दिनांक 1 अगस्त 1987 को समिति द्वारा दर्ज खातेदार स्वर्गीय गिरिराज चरन रस्तोगी पुत्र स्वर्गीय विशंभर नाथ रस्तोगी के पुत्रों से संपूर्ण अंश लेकर उपरोक्त भूमि पर प्लाटिंग पर अपने सदस्यों को बेच दिया जो दर्ज कागजात एवं मौके पर घर बनाकर रह रहे हैं। भूमि संख्या उपरोक्त को ट्रांस गोमती सहकारी आवास समिति लिमिटेड लखनऊ द्वारा नर%7ंद्र कुमार रस्तोगी व सुरेंद्र कुमार रस्तोगी पुत्र स्वर्गीय गिरिराज चरन रस्तोगी निवासी 223/124 रस्तोगी टोला लखनऊ से खरीदा गया था। इस भूमि के विक्रेताओं को अपने स्वर्गीय पिता से वसीयतनामा प्राप्त हुई थी जो कि कार्यालय उप निबंध लखनऊ के यहां वही संख्या 1, जिल्द संख्या 3669 के पृष्ठ संख्या 177 से 179 दस्तावेज संख्या 7706 दिनांक 19 फरवरी 1992 को रजिस्ट्री कृत दर्ज अभिलेखों में पंजीकृत हुई। इसके बाद समिति ने भूमि पर प्लाटिंग कर अपने सदस्यों को विक्रय कर मौके पर कब्जा दे दिया। तब से समिति के सदस्य मौके पर काबिज चले आ रहे हैं तथा घर बनाकर रह रहे हैं और शेष भूमि मौके पर खाली पड़ी है।

वर्ष 2005 में इस भूमि को फर्जी तरीके से तथ्यों को छिपाकर स्वर्गीय गिरिराज चरण रस्तोगी के परिजनों ने अपना नाम राजस्व अभिलेखों में दर्ज करा कर पुनः जमीन का अवैध तरीके से विक्रय कराने के लगे एवं भूमि पर काबिज सोसाइटी के सदस्यों को परेशान कर जबरन बेदखल करने का प्रयास करने लगे। इस पर सोसायटी के सदस्यों ने उन लोगों के खिलाफ विभिन्न न्यायालयों दीवानी एवं फौजदारी मे वाद योजित कराए। आरोप है कि रह रहे लोगों को बेदखल करने के लिए इन लोगों ने वर्ष 2018 में वंदना रस्तोगी पत्नी स्वर्गीय बृजेंद्र कुमार रस्तोगी व प्रखर रस्तोगी पुत्र स्वर्गीय बृजेंद्र कुमार रस्तोगी निवासीगण 245/35 भावना सिंह शिवाला रोड यहियागंज की मुख्तारेआम प्रज्ञा रस्तोगी पुत्री स्वर्गीय बृजेंद्र कुमार रस्तोगी पत्नी मनीष रस्तोगी निवासी 294/113 बाजारखाला ने विभिन्न न्यायालयों में विचाराधीन वादों में नाट्यप्रेस के आधार पर मुकदमे वापस ले लिए और बिना किसी विधिक अधिकारी के भूमि विक्रय करने लगे। प्रज्ञा रस्तोगी वंदना रस्तोगी ने न्यायालय उप जिलाधिकारी बख्शी का तालाब के यहां अंतर्गत धारा 110 उत्तर प्रदेश राजस्व संहिता 2006 के तहत एक बाद योजित किया। जिसमें समिति के सदस्यों को विपक्षी पक्ष का बनाया गया वाद की जानकारी समिति के सदस्यों को दी गई। इस प्रकार प्रखर रस्तोगी वंदना रस्तोगी शारदा रस्तोगी ने मिलकर सोसाइटी की भूमि को हड़पने की नीयत से पहले उपरोक्त भूमि को अपने नाम दर्ज कराया और अब उपरोक्त वाद न्यायालय के समक्ष आयोजित किया गया है। इसलिए अधिवक्ता सिविल कोर्ट लखनऊ सत्येंद्र कुमार ने इन सभी लोगों के विरुद्ध सोसाइटी की भूमि को विधि विरुद्ध तरीके से पुनः विक्रय करने से रोकने के लिए सक्षम अधिकारियों से न्याय की मांग की है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.