प्रयागराज: इलाहाबाद हाईकोर्ट के वकीलों के विरोध के एलान के चलते विकास दुबे एनकाउंटर की जांच कर रहे न्यायिक आयोग का प्रयागराज दौरा रद हो गया है. सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जज जस्टिस बीएस चौहान की अगुवाई में सोमवार को न्यायिक आयोग दौरा प्रस्तावित था. बिकरु कांड के आरोपी विकास दुबे एनकाउंटर की वास्तविकता जांचने के लिए न्यायिक आयोग के सदस्यों को इलाहाबाद हाईकोर्ट आना था.
हाईकोर्ट दौरे पर जताया एतराज
न्यायिक आयोग को ये पता लगाना था कि विकास दुबे को यहां किन हालातों और आधार पर पहले जमानत मिली थी. इस दौरान हाईकोर्ट में कुछ लोगों का बयान दर्ज हो सकता था. रिटायर्ड जस्टिस बीएस चौहान घटना की जांच के लिए गठित जांच कमेटी के चेयरमैन हैं. इलाहाबाद हाईकोर्ट बार एसोसिएशन ने जस्टिस बीएस चौहान की अगुवाई वाले न्यायिक आयोग के हाईकोर्ट दौरे पर एतराज जताया था.
वकीलों ने किया था विरोध
इलाहाबाद हाईकोर्ट के वकीलों ने कहा गया था अगर जस्टिस चौहान कोर्ट परिसर में पहुंचे तो प्रदेश भर के अधिवक्ता आंदोलन के लिए बाध्य होंगें. वकीलों ने विरोध करने और हाईकोर्ट परिसर में नहीं घुसने देने का एलान भी किया था. बार एसोसिएशन का कहना है कि जांच समिति अपने दायरे से बाहर जाकर न्यायालय और न्यायिक व्यवस्था की जांच नहीं कर सकती है.
न्यायपालिका को अपमानित करने का आरोप
बार एसोसिएशन ने जांच के नाम पर न्यायपालिका को अपमानित करने का भी आरोप लगाया था. 8 जनवरी को हाईकोर्ट बार एसोसिएशन की आपात बैठक में विरोध करने का फैसला लिया गया था. ये बैठक हाईकोर्ट बार एसोसिएशन के अध्यक्ष अमरेंद्र नाथ सिंह की अध्यक्षता में हुई थी. वकीलों की नाराजगी और विरोध के एलान के चलते खुफिया विभाग ने भी अपनी रिपोर्ट दी थी जिसके बाद हंगामे की आशंका के चलते न्यायिक आयोग का हाईकोर्ट दौरा रद हो गया है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.