मथुरा: श्री कृष्ण जन्म भूमि के मालिकाना और परिसर को अतिक्रमण मुक्त बनाने की मांग को लेकर आज जिला न्यायालय कोर्ट में गुरुवार सुबह ग्यारह बजे से सुनवाई शुरू हो गई है. इस दौरान वादी प्रतिवादी पक्ष सभी मौजूद हैं. जिला प्रशासन ने सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए हैं. 25 सितंबर को जिला न्यायालय कोर्ट में याचिका दायर की गई थी.

श्री कृष्ण जन्म भूमि का मालिकाना हक

श्री कृष्ण जन्मस्थान परिसर 13.37 एकड़ में बना हुआ है. 11 एकड़ में श्री कृष्ण जन्मभूमि लीला मंच, भागवत भवन और 2.37 एकड़ में शाही ईदगाह मस्जिद बनी हुई है. सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता हरिशंकर जैन, विष्णु शंकर जैन, रंजना अग्निहोत्री सहित पांच अधिवक्ताओं ने 25 सितंबर को श्री कृष्ण जन्मस्थान के मालिकाना हक परिसर को मस्जिद मुक्त बनाने की मांग को लेकर कोर्ट में याचिका डाली गई थी.

जन्मभूमि मामले में चार प्रतिवादी पक्ष

श्री कृष्ण जन्मभूमि सेवा संस्थान, शाही ईदगाह कमेटी, सुन्नी वक्फ बोर्ड और श्री कृष्ण सेवा ट्रस्ट को प्रतिवादी पक्ष बनाया गया है. प्रतिवादी पक्ष के अधिवक्ताओं ने जिला न्यायालय कोर्ट में अपना-अपना वकालतनामा दाखिल किया जा चुका है. जिला न्यायालय कोर्ट में आज सुनवाई हो रही है.

जन्मभूमि मामले को लेकर कोर्ट मे पांच नए पिटीशन फाइल

श्री कृष्ण जन्मभूमि मालिकाना हक और परिसर को मस्जिद मुक्त बनाने की मांग को लेकर श्री कृष्ण भक्त अजय गोयल, वीरेंद्र अग्रवाल, डॉक्टर केशवाचार्य, विजेंद्र पोइया और योगेश उपाध्याय आभा ने कोर्ट में पक्षकार बनाने की मांग को लेकर पहले ही प्रार्थना पत्र सलदे चुके हैं, जबकि श्री कृष्ण जन्मभूमि मामले में चार पक्षकार अखिल भारतीय हिंदू महासभा, तीर्थ पुरोहित महासभा, चतुर्वेद परिषद और रंजना अग्निहोत्री अपना प्रार्थना पत्र दे चुके हैं. जन्मभूमि मामले में अब कुल नौ पक्षकार हैं.

क्या है मांग

12 अक्टूबर 1968 को कटरा केशव देव मंदिर की जमीन का समझौता श्री कृष्ण जन्मस्थान सोसायटी द्वारा किया गया. बीस जुलाई 1973 को यह जमीन डिक्री की गई. डिक्री रद्द करने की मांग को लेकर 25 सितंबर को सुप्रीम कोर्ट के अधिवक्ता ने कोर्ट मे याचिका डाली थी.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.