नई दिल्ली: भारत में कोरोना वैक्सीन का इंतज़ार अब जल्द खत्म होने वाला है. इस बात के संकेत खुद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन ने दिए हैं. जल्द ही वैक्सीन को इमरजेंसी अप्रूवल मिलने वाला है, और उसके बाद सबसे बड़ी चुनौती है वैक्सीन को करोड़ों लोगों तक पहुंचाना. इसीलिए केंद्र सरकार ने एक लिस्ट तैयार की है जिसमें 30 करोड़ लोगों को पहला डोज दिया जाएगा. स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने वैक्सीनेशन को लेकर सरकार की तैयारियां के बारे में विस्तार से बताया है.
इन लोगों को सबसे पहले मिलेगी वैक्सीन
स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने कहा, “भारत सरकार पिछले चार महीनों से राज्य सरकारों के साथ मिलकर राज्य, जिला और ब्लॉक स्तर पर वैक्सीनेशन के लिए तैयारियां कर रही है. जिन 30 करोड़ लोगों को पहले वैक्सीन दी जाएगी उनमें 1 करोड़ स्वास्थ्य कर्मी, 2 करोड़ फ्रंट लाइन वर्कर, 50 साल से अधिक उम्र के 26 करोड़ लोग और 50 साल से कम उम्र के करीब एक करोड़ लोग हैं जिनको कोई ​बीमारी है.”
फोन पर मिल जाएगी जानकारी
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि किस व्यक्ति को कहां, कब, कैसे वैक्सीन मिलेगी. इसकी जानकारी फोन पर ही उस व्यक्ति को मिल जाएगी. उसके बाद हम उसे मॉनीटर करेंगे साथ ही दूसरे डोज के बारे में भी जानकारी फोन पर ही भेज दी जाएगी. उन्होंने कहा कि अगर कोई वैक्सीन लेने से इनकार करता है, तो हमारी तरफ से उसपर दबाव नहीं बनाया जाएगा.
अगले साल जनवरी में आ सकती है वैक्सीन
डॉ हर्षवर्धन ने कहा कि भारत वैक्सीन के विकास और रिसर्च में किसी से पीछे नहीं है. वैक्सीन की सुरक्षा, प्रभावशीलता, प्रतिरक्षाजनकता को लेकर भारत किसी तरह का कोई समझौता नहीं करेगा. हमारे रेगुलेटर बहुत गहराई और गंभीरता से आंकड़ों का अध्ययन कर रहे हैं. मुझे लगता है कि अगले वर्ष जनवरी के महीने में किसी भी सप्ताह में ऐसा समय आ सकता है जब हम भारत के लोगों को पहली वैक्सीन देने की स्थिति में आ जाएं.
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- हमारा रिकवरी रेट दुनिया में सबसे ज़्यादा है
स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि कुछ ​महीनों पहले देश में कोरोना वायरस के 10 लाख सक्रिय मामले थे, अभी देश में करीब 3 लाख सक्रिय मामले हैं. कोरोना वायरस के एक करोड़ मामलों में से 95 लाख से ज़्यादा मामले ठीक हो चुके हैं. हमारा रिकवरी रेट दुनिया में सबसे ज़्यादा है. उन्होंने कहा कि मुझे लगता है कि जितनी तकलीफों से हम गुजरे हैं अब वो खत्म होने की दिशा में आगे बढ़ रही हैं। इतना बड़ा देश होते हुए दुनिया के दूसरे बड़े देशों के मुकाबले भारत बेहतर स्थिति में है.
भारत में कुल 8 वैक्सीन के ट्रायल चल रहे हैं
बता दें कि भारत में इस समय कुल 8 वैक्सीन के ट्रायल चल रहे हैं. ये सभी ट्रायल अलग अलग चरणों में हैं. कुछ एडवांस स्टेज पर हैं, तो कुछ तीसरे चरण के अंतिम में हैं. भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड और आईसीएमआर द्वारा बनाई जा रही, वैक्सीन कोवैक्सीन (Covaxin) का ट्रायल तीसरे चरण में चल रहा है. इसका ट्रायल और निर्माण करने वाली भारत बायोटेक इंटरनेशनल लिमिटेड ने डीसीजीआई से इमरजेंसी यूज ऑथराइजेशन की अनुमति मांगी है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.