लखनऊ। केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के विरोध में किसानों का आंदोलन लगातार 19वें दिन जारी है। सोमवार को किसान भूख हड़ताल पर हैं। उत्तर प्रदेश में किसानों के आंदोलन को समाजवादी पार्टी का पूरा सहयोग मिल रहा है। उधर प्रदेश सरकार भी इस आंदोलन की आड़ में किसी अप्रिय घटना से निपटने के लिए पूरी तरह से मुस्तैद है। जिलों में पुलिस का पहरा काफी सख्त है।
केंद्र सरकार चाहती है कि नए कृषि कानूनों को लेकर गतिरोध बातचीत के माध्यम से खत्म किया हो, लेकिन किसान इसकी वापसी की मांग पर अड़े हुए हैं। इस दौरान किसान संगठनों और सरकार के बीच कई दौर की बातचीत भी हो चुकी है, लेकिन बात नहीं बन पाई है।
केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार के नए कृषि कानूनों के खिलाफ जारी किसानों के विरोध का आज 19वां दिन है। किसानों ने अपना प्रदर्शन तेज कर दिया है और आज वह भूख हड़ताल पर हैं। उत्तर प्रदेश में किसानों के आंदोलन को समाजवादी पार्टी का पूरा सहयोग मिल रहा है। आज किसानों की भूख के साथ ही समाजववादी पार्टी का सभी जिला मुख्यालयों पर विरोध प्रदर्शन भी है। इनके साथ रालोद, आप व कांग्रेस का भी किसान यूनियन को समर्थन है। सूबे मेें जिला मुख्यालय पर किसान आज प्रदर्शन करने के साथ डीएम को ज्ञापन सौपेंगे।
लखनऊ में नेता विपक्ष रामगोविंद चौधरी आपने आवास पर धरने पर बैठे। पुलिस ने किसान बिल के विरोध में अपने आवास से निकलने पर रोका। लखनऊ सहित प्रदेश के अन्य जिला मुख्यालयों में किसान संगठनों का आज प्रदर्शन है। कृषि विधेयकों को लेकर जारी आंदोलन के दौरान आज जिला केंद्रों पर विभिन्न किसान संगठन के प्रदर्शन के दौरान समाजवादी पार्टी जिला मुख्यालयों पर धरना देगी।
पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सभी जिलों में शांतिपूर्ण अहिंसात्मक धरना देने के निर्देश दिए हैं। लखनऊ में चिनहट के ग्रामीण क्षेत्र से आज किसानों निकलकर जिलाधिकारी कार्यालय तक पैदल मार्च करेंगे। भाकियू टिकैत गुट इस पैदल मार्च को रोकने के लिए पुलिस ने देवा रोड को ब्लॉक किया है। चिनहट पुलिस ने किसानों को रोक दिया है।
लखनऊ में आज राष्ट्रीय लोकदल के नेता भी कृषि बिल के खिलाफ प्रदर्शन करेंगे। प्रदेश अध्यक्ष मसूद अहमद के नेतृत्व में यह प्रदर्शन है। रालोद नेता प्रदेश कार्यालय से कलेक्ट्रेट जाएंगे। जहां जिलाधिकारी के माध्यम से राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपेंगे। इसके साथ ही समाजवादी पार्टी के नेताओं का कलेक्ट्रेट का घेराव करने का कार्यक्रम है। समाजवादी पार्टी जिला मुख्यालय से किसानों के साथ सपा के नेता नगर अध्यक्ष सुशील दीक्षित के नेतृत्व में जिलाधिकारी कार्यालय का घेराव करेंगे।
लखनऊ में इसके साथ ही रक्षा मंत्री तथा लखनऊ के सांसद राजनाथ सिंह और मोहनलालगंज से सांसद कौशल किशोर के आवास का घेराव होगा। लखनऊ में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का आवास दिलकुशा में है। जहां पर एकत्र होकर किसान कृषि बिल वापस लेने की मांग करेंगे। किसान नेता हरिनाम सिंह के नेतृत्व में राजनाथ सिंह के आवास का घेराव होगा जबकि दोपहर बाद किसान मोहनलालगंज से सांसद कौशल किशोर के आवास के बाहर प्रदर्शन करेंगे।
अलीगढ़ में कांग्रेस के प्रदेश महासचिव गिरफ्तार, हंगामा
अलीगढ़ में कृषि विधेयकों के खिलाफ कांग्रेस के रेल रोको आंदोलन को पुलिस ने विफल कर दिया। कांग्रेस जिलाध्यक्ष चौ. सुरेंद्र सिंह समेत तमाम नेताओं को जहां जिला कार्यालय पर रोक लिया गया, वहीं युवक कांग्रेस के प्रदेश महासचिव कुंवर गौरांग देव को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। कई कांग्रेसियों को उनके घरों पर ही नजरबंद कर दिया गया। इसे लेकर कांग्रेसियों ने खूब हंगामा किया।
प्रयागराज-प्रतापगढ़ में हिरासत में कई सपाई
नए कृषि कानूनोंं को लेकर आंदोलित किसानों के समर्थन में सोमवार को प्रयागराज और प्रतापगढ़ में सपाई सड़क पर उतरे। दोनों ही जिला मुख्यालय मेंं कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन के लिए जा रहे तमाम पार्टी कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। प्रयागराज में कलेक्ट्रेट ऑफिस के बाहर प्रदर्शन के दौरान सपाई हिरासत में लिए गए। कलेक्ट्रेट जाने वाले रास्तों की बैरीकेडिंग की गई है।
प्रतापगढ़ मेंं सपाइयों ने शहर के पुराना मालगोदाम रोड से जुलूस निकाला। एमडीपीजी कालेज के सामने से होकर भंगवा चुंगी की तरफ सपाइयों जिला उपाध्यक्ष इरशाद सिद्दीकी, वासिक खान, शांती सिंह, सुषमा पाल सहित डेढ़ दर्जन सपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। इन्हें तिलक कालेज में रखा गया है। पूरे शहर में फोर्स मुस्तैद है। कौशांबी जिला मुख्यालय मंझनपुर में भी पुलिस कलेक्ट्रेट के आसपास मौजूद है।
आगरा में रविवार रात से ही अलर्ट पर पुलिस
आगरा में किसान आंदोलन को लेकर पुलिस रविवार रात से ही अलर्ट है। किसान नेताओं को घर में नजरबंद कर दिया। सुबह से ही पुलिस ने कलक्ट्रेट और सदर तहसील पर पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया। टोल प्लाजा पर भी पुलिस और पीएसी तैनात है।आगरा में सोमवार को किसानों ने कलक्ट्रेट और तहसील सदर पर विरोध प्रदर्शन करने का एलान किया था। पुलिस ने प्रदर्शन का एलान करने वाले किसान नेताओं को घर में ही नजरबंद कर दिया।
कलक्ट्रेट और तहसील पर ड्रोन कैमरे से भी निगरानी की जा रही है। किसान नेताओं के साथ ही राजनीतिक दलों से जुड़े नेताओं की भी निगरानी रखी जा रही है। यमुना एक्सप्रेस वे के खंदौली टोल प्लाजा पर पुलिस और पीएसी तैनात है। नोएडा की ओर जाने वाले वाहनों को चेकिंग के बाद ही जाने दिया जा रहा है।
यमुना एक्सप्रेस वे के कुबेरपुर और खंदौली इंटरचेंज पर भी पुलिस लगा दी गई है। राजस्थान की सीमा पर सैंया थाना क्षेत्र में टोल प्लाजा पर पुलिस तैनात है। इसके साथ ही आगरा-जयपुर मार्ग पर कौरई टोल प्लाजा और पुलिसा चौकी चौमा शाहपुर पर भी पुलिस है। मथुरा, मैनपुरी, एटा व फीरोजाबाद जिले में भी पुलिस चौकस है। इस वजह से अभी किसान प्रदर्शन नहीं कर सके हैं।
बलिया में किसान बिल के खिलाफ समाजवादी पार्टी कलेक्ट्रेट पर विरोध प्रदर्शन की तैयारी कर रही है। पूर्वांचल में पुलिस कई सपा नेताओं के घरों के बाहर तैनात हो गई है साथ ही जिला मुख्यालयों पर भी मुस्तैद है। चन्द्रशेखर नगर में पूर्व मंत्री नारद राय के के आवास पर भारी संख्या में पुलिस बल पहुंची और उन्हेंं नजरबंद कर दिया। उन्नाव में किसानों के समर्थन में सपा के प्रदर्शन को लेकर प्रशासन सख्त है। आज जिले में चप्पे-चप्पे पर पुलिस का कड़ा पहरा है। यहां सार्वजनिक स्थल के साथ कलेक्ट्रेट छावनी में तब्दील किया गया है। जिले में समाजवादी पार्टी के नेताओं पर पुलिस की पैनी नजर है।
मुजफ्फरनगर में किसानों के आंदोलन को समर्थन देने के लिए कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन की तैयारी कर रहे समाजवादी पार्टी के कई नेताओं को हिरासत में लिया गया है। इस दौरान पूर्व मंत्री योगराज सिंह को गिरफ्तार किया गया है। जिले में सपा के साथ रालोद के किसानों के समर्थन में आने के कारण पुलिस प्रशासन अलर्ट पर है। हरदोई में भी समाजवादी पार्टी के नेता किसानों के समर्थन में धरने पर बैठे हैं। यहां पर पुलिस ने सपा जिला अध्यक्ष से धक्का-मुक्की की है। इसके बाद इनको जबरन गिरफ्तार किया गया है। कन्नौज में भी रैली निकालने जा रहे सपा नेताओं को गिरफ्तार किया गया है।
फिरोजाबाद में जिला मुख्यालय पर धरना देने जा रहे समाजवादी पार्टी के नेताओं को पुलिस ने रोक लिया है। कौशाम्बी में भी आज किसानों का जिला मुख्यालय पर प्रदर्शन है। किसानों के बड़ी संख्या में जिला मुख्यालय घेरने के ऐलान पर पुलिस अलर्ट है। पुलिस ने कई किसान नेताओं को नजरबंद किया है। किसान नेता श्याम सिंह चाहर को हिरासत में लिया। इसके साथ भाकियू कार्यकर्ता सोमवीर यादव को भी नजर बंद किया गया है। इससे पहले पुलिस ने सभी थाना क्षेत्रों में फ्लैग मार्च किया था।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.