नई दिल्ली: केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों ने आज भारत बंद का आह्वान किया है। वहीं सुबह से ही जगह-जगह से हाईवे पर जाम लगाने और ट्रेनों को रोके जाने की खबरें आने लगी हैं। हालांकि किसानों की ओर से सुबह 11 बजे से दोपहर
बाद 3 बजे तक ही चक्का जाम का ऐलान किया गया है लेकिन बिहार के खगड़िया में रघुनाथपुर गांव के पास वाम दलों के कार्यकर्ताओं ने NH 31 सड़क को जाम कर दिया वहीं वामदलों के कार्यकर्ता, ट्रेड यूनियन और किसान यूनियन ने भुवनेश्वर रेलवे स्टेशन पर ट्रेनों को रोक दिया। राष्ट्रव्यापी बंद के आह्वान को कुछ मजदूर संघों ने भी समर्थन देने का ऐलान किया है।
किसान नेताओं ने कहा है कि किसी को भी बंद में शामिल होने के लिये बाध्य नहीं किया जाएगा। लगभग सभी विपक्षी दलों द्वारा ‘भारत बंद’ को समर्थन देने और कई संगठनों के किसानों के समर्थन में समानांतर प्रदर्शन करने की घोषणा के बाद केंद्र ने परामर्श जारी करते हुए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को सुरक्षा बढ़ाने और शांति सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।
सभी से “सांकेतिक” बंद में शामिल होने की अपील करते हुए किसान नेताओं ने कहा कि अपने प्रदर्शन के तहत पूर्वाह्न 11 बजे से अपराह्न तीन बजे तक वे “चक्का जाम” प्रदर्शन करेंगे जिस दौरान प्रमुख सड़कों को जाम किया जाएगा। प्रदर्शन के तहत उत्तरी राज्यों खासकर पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश और दिल्ली के किसान सड़कों पर उतरे हैं।
किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा, “हमारा बंद राजनीतिक दलों के बंद से अलग है। यह विचारधारा के कारण किया गया चार घंटे का सांकेतिक बंद है। हम चाहते हैं कि आम आदमी को कोई परेशानी न हो। हम उनसे इस अवधि के दौरान यात्रा न करने की अपील करते हैं।” उन्होंने कहा, “हम दुकानदारों से भी इस अवधि के दौरान अपनी दुकानें बंद रखने का अनुरोध करते हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.