नई दिल्ली: देश के लिए नए संसद भवन की नींव 10 दिसंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रखेंगे. इस दौरान विपक्ष के कुछ नेताओं को भी आमंत्रित किया जाएगा. मौजूदा संसद भवन बेहद पुराना और सीमित जगह की वजह से छोटा पड़ने लगा है इसलिए नए भवन की आवश्यकता अरसे से महसूस की जाती रही है.
नए संसद भवन का निर्माण तकरीबन 850 करोड़ रुपये की लागत से होगा. यह संसद भवन की मौजूदा संसद भवन परिसर में ही निर्मित किया जाएगा. 2022 तक इस नए संसद भवन को पूरा करने की महत्वाकांक्षी योजना है ताकि जब भारत आजादी का 75वां साल मना रहा हो तो सरकार नए संसद भवन में बैठकर आजादी की 75 वीं वर्षगांठ मना सके. नई बिल्डिंग में संयुक्त शासन चलने पर भी 1350 सांसदों की बैठने की व्यवस्था होगी.
नई बिल्डिंग में भी 3 फ्लोर होंगे
सूत्रों के मुताबिक, नई इमारत 65,000 वर्ग मीटर में फैली होगी, जिसमें 16921 वर्ग मीटर का इलाका अंडरग्राउंड भी होगा. नई बिल्डिंग में भी 3 फ्लोर होंगे जिसमें से एक ग्राउंड फ्लोर जबकि 2 मंजिल उसके ऊपर होंगे. भवन का डिजाइन त्रिकोणीय होगा जिसका नजारा आसमान से देखने पर तीन रंगो की किरणों वाला होगा. सांसदों के बैठने की व्यवस्था और सीटिंग अरेंजमेंट ज्यादा आरामदायक होगा. टू सीटर बैंच होगी यानी कि एक टेबल पर दो सांसद ही बैठ सकेंगे.
नए संसद परिषद की खासियत ये है कि इसको डिजाइन करने वाले विमल पटेल गुजरात के अहमदाबाद के रहने वाले हैं. पटेल ही सेंट्रल विस्टा की रीडिजाइनिंग भी कर रहे हैं. नए संसद भवन में एक राउंड भी होगा. सूत्रों के मुताबिक नई बिल्डिंग की डिजाइन में लोकसभा राज्यसभा और एक खुला आंगन होगा. जिसके चारों ओर एक लॉन्च होगा. इसमें कई दिलचस्प प्रयोग भी दिख सकते हैं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.