महोबा: जिले में 4 साल के मासूम को बोरवेल से निकालने के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन लगातार जारी है. जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक मौके पर रहकर राहत और बचाव कार्य पर अपनी नजर बनाए हुए हैं. मौके पर खुदाई का काम जारी है, करीब 23 फिट की खुदाई पूर्ण हो चुकी है. एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीमें लखनऊ से मदद के लिए महोबा आ रही हैं. साथ ही डॉक्टरों की टीम बच्चे के साथ सम्पर्क बनाये हुए है, बच्चे को लगातार आक्सीजन दी जा रही है.
बचाव कार्य लगातार जारी
मामला महोबा जिले के कुलपहाड़ थाना क्षेत्र के बुधौरा गांव का है, जहां किसान भागीरथ कुशवाहा अपने परिवार के साथ खेत पर गेहूं की फसल में पानी लगा रहा था, तभी खेत में खेल रहा भागीरथ का चार साल का बेटा घनेन्द्र नौ इंच चौड़े बोरवेल में जा गिरा.  खेत में काम कर रहे पति-पत्नी ने खेत में घनेन्द्र को खोजा तो उसका कहीं पता नहीं चला. खोजते खोजते जब वे बोरवेल के पास पहुंचे तो बेटे की आवाज सुनकर दंग रह गए. भागीरथ ने इसकी सूचना पुलिस को दी, सूचना के बाद प्रशासन एलर्ट हो गया. सूचना पर जिले के डीएम सत्येन्द्र कुमार, एसपी अरुण कुमार श्रीवास्तव भारी पुलिसबल और प्रशासनिक अमले के साथ कुलपहाड से उपजिलाधिकारी मोहम्मद अवेश , सामु.स्वा. केन्द्र बेलाताल के चिकित्सक एवं अन्य अधिकारी मौके पर पहुंच गए हैं. फायर स्टेशन की गाडी ,एम्बुलेंस भी मौके पर पहुंच गई है. जेसीबी मशीन को मौके पर मंगा कर युद्धस्तर पर रेस्क्यू शुरू किया गया. बोर 9 इंच का है और घनेन्द्र 25 फिट गहराई में फंसा है.
परिजनों ने दी जानकारी
बच्चे के परिजन कालीचरण ने बताया कि हमारा नाती बोरवेल में गिर गया. बोरवेल में पहले चीप रखी थी किसी ने उसे हटा दिया और वहां पन्नी रख दी थी. घनेन्द्र ने उसमें पैर रख दिया और गिर गया. प्रशासन ने जेसीबी मशीन लगाकर बच्चे को सुरक्षित निकालने की बात कही है.
20 फीट तक हुई खुदाई
पुलिस अधीक्षक महोबा अरुण कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि 4 वर्षीय मासूम बोरवेल में गिर गया था, जो लगभग 25 फिट नीचे है.उसके बचाव के लिए हमने 4 जेसीबी मशीनों से खुदाई शुरू कराई है.  हम अभी तक 20 फिट खोद चुके हैं, अभी भी रेस्क्यू जारी है जल्द ही बच्चे को सकुशल बाहर निकाल लिया जाएगा.
बच्चा बोरवेल में गिर गया है जिसके 25 फिट नीचे होने की संभावना है. हम लोगों ने 3 जेसीबी मशीन लगाकर 20 फिट तक खोद लिया है. जल्द ही बच्चे को निकाल लिया जाएगा. बच्चे के स्वास्थ्य के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम मौजूद है, जो लगातार बच्चे को ऑक्सीजन देने का काम कर रही है और एनडीआरएफ,एसडीआरएफ की टीमें यहां के लिए निकल चुकी हैं. हमने एक्सपर्ट्स को भी सूचना दे दी है. वो भी बहुत जल्द यहां आ जाएंगे.
-सत्येंद्र कुमार, जिलाधिकारी  

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.