मधुर मोहन तिवारी

  • स्थितियां अनुकूल होते ही इस सिद्धपीठ में भजनांजलि पेश करेंगे
लखनऊ। मेरे लिये लखनऊ आना अपने घर आने जैसा होता है। ऐसे में अगर सम्मान और देवी मां का आशीर्वाद मिल जाए तो सोने पर सुहागा हो जाता है। मुझे एक ओर जहां वर्षों बाद लखनऊ विश्वविद्यालय से डिग्री का सम्मान मिला वहीं बीकेटी के नंदना गांव स्थित इक्यावन शक्तिपीठ से देवोत्थानी एकादशी पर मां के दर्शन ही नहीं चुनरी का आशीर्वाद मिल गया। यह कहना है भजन सम्राट अनूप जलोटा का।
पदमश्री अनूप जलोटा ने इक्यावन शक्तिपीठ में मां के दर्शन किये। दरअसल वर्तमान में मन्दिर का 21वां स्थापना दिवस समारोह मनाया जा रहा है। वहां भक्तों ने जब हर दिल अजीज अनूप जलोटा को देखा तो सब उत्साहित हो उठे। किसी ने ऑटोग्राफ लिया तो किसी ने उनके संग तस्वीरे खिचाईं। कोरोना संकट को देखते हुए उन्होंने हालांकि सावधानियां अपनाते हुए दूरियां बनायी रखीं लेकिन उन्होंने भक्तो को निराश नहीं किया उन्होंने आश्वस्त किया कि जल्द ही वह मंदिर पर एक प्रेरक वीडियो तैयार करेंगे। स्थितियां अनुकूल होने पर भजन सुनाने भी आएंगे।
जलोटा का हुआ सम्मान
आशीष सेवा यज्ञ न्यास के अध्यक्ष रघुराज दीक्षित, वरद तिवारी, प्रेम नारायण मेहरोत्रा ने अनूप जलोटा को स्थापना दिवस पर माता रानी की गोटेदार लाल चुनरी और अंगवस्त्र भेंट कर सम्मानित किया। इसके साथ ही मंदिर का साहित्य भी उनको भेंट किया गया। रघुराज दीक्षित, प्रेम नरायण मेहरोत्रा ने सभी शक्तिपीठ के 51 शक्तिपीठ के दर्शन कराते हुए मंदिर की जानकारी दी। बाद में अनूप जलोटा सबसे ऊपर तल पर स्थित स्फटिक शिवलिंग के दर्शन कर गदगद हो गये। उन्होंने कहा कि यहां आकर एक दिव्यता, निर्मलता और सुकून का अद्भुत अहसास हुआ।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.