लखनऊः यूपी के आठ आकांक्षात्मक जिलों में चंदौली, बलरामपुर, चित्रकूट और फतेहपुर ने नीति आयोग के मानकों पर उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है. अब आयोग की ओर से इन जिलों को विकास कार्यों के लिए अतिरिक्त बजट आवंटित किया गया है. इसमें चंदौली जिले को सबसे अधिक बजट आवंटित किया गया है. इस बजट से इन जिलों में हो रहे विकास कार्यों में और तेजी आएगी.

चंदौली जिले को सबसे अधिक धन आवंटित
नीति आयोग की ओवरऑल डेल्टा रैंकिंग में चंदौली ने शिक्षा, स्वास्थ्य, पोषण सहित अनेक मानकों पर शीर्ष स्थान हासिल किया है. आयोग की ओर से चंदौली जिले को दस करोड़ रुपये का अतिरिक्त बजट आवंटित किया गया है. जिले में विकास कार्यों के साथ शिक्षा, स्वास्थ्य व पोषण, कृषि, कौशल विकास ओर रोजगार, स्वच्छता एवं मूलभूत सुविधाओं को विकसित करने के लिए उत्कृष्ट कार्य हुए हैं.

इन तीन जिलों ने भी हासिल की अच्छी रैंकिंग
प्रदेश के तीन और जिलों को भी विभिन्न योजनाओं में अच्छी रैंकिंग हासिल करने पर तीन करोड़ रुपये का अतिरिक्त फंड दिया गया है. बलरामपुर ने शिक्षा के क्षेत्र में अच्छी रैंक हासिल की है. वहीं चित्रकूट ने वित्तीय समावेशन और कौशल विकास में अच्छा प्रदर्शन किया है. इसके अलावा, फतेहपुर जिले ने कृषि और जल संसाधनों में अच्छी रैंक हासिल की है. इन जिलों के लिए आयोग की ओर से अतिरिक्त बजट का आवंटन अगस्त और सितंबर 2020 में हुए विकास कार्यों के आधार पर किया गया है.
विकास के मापदंडों पर आकांक्षात्मक जिलों को बजट आवंटन
उल्लेखनीय है कि नीति आयोग विभिन्न विकासात्मक मापदंडों के माध्यम से रैंक हासिल करने वाले आकांक्षात्मक जिलों को अतिरिक्त धन आवंटन करता है. विकास के मामले में पिछड़े जिलों को नीति आयोग ने आकांक्षात्मक घोषित किया था. इसके बाद यहां स्वास्थ्य व पोषण, शिक्षा, कृषि, मूलभूत सुविधाएं और कौशल विकास के क्षेत्र में सुधार की कवायद शुरू हुई. आयोग के सुझाव के अनुसार इन विभागों में विकास की खास पहल की गई.
देश के 115 आकांक्षात्मक जिलों में यूपी आठ जिले
देश के 115 आकांक्षात्मक जिलों की सूची में उत्तर प्रदेश के आठ जिले शामिल किए गए हैं. इसमें बलरामपुर, श्रावस्ती, बहराइच, सिद्धार्थनगर, चंदौली, सोनभद्र, फतेहपुर और चित्रकूट शामिल हैं. वहीं अतिरिक्त आवंटन का लाभ प्राप्त करने वाले चारों आकांक्षात्मक जिलों के जिला मजिस्ट्रेट और कलेक्टरों को 30 नवंबर तक कार्ययोजना का प्रस्ताव कार्यक्रम प्रबंधन इकाई (पीएमयू) को सौंपना है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.