नई दिल्‍ली। रसियन डायरेक्‍ट इनवेस्‍टमेंट फंड (आरडीआईएफ) ने अंतरराष्‍ट्रीय बाजार के लिए अपने कोरोना वायरस टीके Russian Sputnik V vaccine की कीमत की घोषणा की है। आरडीएफआई ने कहा कि उसका टीका स्‍पूतनिक वी फरवरी, 2021 से अंतरराष्‍ट्रीय बाजार में उपलब्‍ध होगा और इसके एक डोज की कीमत 10 डॉलर से कम होगी। आरडीएफआई ने कहा कि स्‍पूतनिक वी वैक्‍सीन दो डोज वाला टीका होगा। प्रत्‍येक व्‍यक्ति को स्‍पू‍तनिक वी के दो टीके लगवाने होंगे।
आरडीएफआई ने कहा कि समान दक्षता दर और एमआरएनए तकनीक वाली अन्‍य वेदेशी वैक्‍सीन की तुलना में कई गुना सस्‍ती होगी। रूसी नागरिकों को स्‍पूतनिक वी का टीका फ्री में लगाया जाएगा। वर्तमान में, आरडीआईएफ और उसके पार्टनर्स ने वैक्‍सीन के ड्राई रूप का उत्‍पादन शुरू किया है, जिसे +2 से +8 डिग्री सेल्सियस तापमान पर स्‍टोर किया जाएगा।
आरडीआईएफ और अग्रणी विदेशी दवा कंपनियों के बीच हुए समझौते के मुताबिक 2021 से हर साल 50 करोड़ लोगों के लिए वैक्‍सीन का उत्‍पादन किया जाएगा। रूसी स्‍पूतनिक वी वैक्‍सीन की पहली अंतरराष्‍ट्रीय खेप ग्राहकों को जनवरी, 2021 में मिलनी शुरू होगी। जिन ग्राहकों ने हाल ही में वैक्‍सीन के लिए खरीद ऑर्डर दिया है, उन्‍हें इस वैक्‍सीन का पहला बैच मार्च, 2021 से मिलना शुरू होगा।
रसियन डायरेक्‍ट इनवेस्‍टमेंट फंड के सीईओ किरिल दिम‍ित्रीव ने कहा कि हमने कोरोना वायरस के खिलाफ 90 प्रतिशत से अधिक दक्षता दर के साथ सबसे मजबूत वैक्‍सीन को विकसित किया है। उन्‍होंने कहा कि इसी दर वाले अन्‍य वैक्‍सीन की तुलना में हमारे वैक्‍सीन की कीमत बहुत कम है। उन्‍होंने कहा कि भारत, ब्राजील, साउथ कोरिया, चीन और चार अन्‍य देशों में विनिर्माण के लिए भागीदारी करने के बाद स्‍पूतनिक वी वैक्‍सीन की डिलीवरी शुरू करने के लिए हम पूरी तरह से तैयार हैं।
24 नवंबर तक, 22 हजार से अधिक वॉलेनटियर्स को पहली डोज का टीका दिया जा चुका है और रूस में चल रहे इस वैक्‍सीन के चिकित्‍सा परीक्षण के दौरान 19,000 से अधिक वॉलेनटियर्स को पहला और दूसरा डोज दिया जा चुका है। तीसरे चरण के क्‍लीनिकल ट्रायल को मंजूरी मिल गई है और इसका परीक्षण बेलारूस, यूएई, वेनेजुएला और अन्‍य देशों में चल रहा है। भारत में स्‍पूतनिक वी वैक्‍सीन के पहले और दूसरे चरण का परीक्षण किया जा रहा है।
24 नवंबर तक इस टीके का कोई भी प्रतिकूल प्रभाव सामने नहीं आया है। कुछ लोगों में इस टीके का मामूली प्रतिकूल असर देखा गया है। इंजेक्‍शन लगाने वाली जगह पर दर्द और बुखार, कमजोरी, चक्‍कर और सिर दर्द जैसे फ्लू-लक्षण भी देखने को मिले हैं।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.