लखनऊ। उत्‍तर प्रदेश में आपराधिक घटनाएं कम होने का नाम नहीं ले रही हैं।  राजधानी में हजरतगंज हाई सिक्योरिटी जोन एवं पुलिस कमिश्नर आवास से चंद कदम दूर शुक्रवार देर रात सपा एमएलसी अमित यादव के फ्लैट में 38 वर्षीय युवक की गोली मार हत्‍या कर दी गई। हाई सिक्योरिटी जोन में हुई वारदात से पुलिस अधिकारियों की नींद उड़ गई। आनन-फानन इंस्पेक्टर हजरतगंज से लेकर आलाअफसर मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने सपा एमएलसी के भाई समेत चार लोगों को हिरासत में ले लिया है।

पिस्टल देख रहे थे, तभी अचानक चल गई गोली
घटना हजरतगंज स्‍थित लॉ-प्लास में शाहजहांपुर से एमएलसी अमित यादव के फ्लैट की है। इंस्पेक्टर हजरतगंज अंजनी पांडेय के मुताबिक, फ्लैट में एमएलसी के भाई पंकज यादव रहते हैं। शुक्रवार देर रात फ्लैट में पंकज के अभिन्न मित्र विनय का बर्थ-डे मनाया जा रहा था। पार्टी में सर्वोदयनगर आजाद नगर निवासी उसका दोस्त राकेश रावत समेत पांच लोग थे। इस दौरान यह लोग पिस्टल देख रहे थे। तभी विनय से गोली चली और राकेश (38) के सीने में धंस गई। राकेश खून से लथपथ होकर मौके पर ही गिर पड़ा। उसे आनन-फानन सभी लोग ट्रामा लेकर पहुंचे। जहां, डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। घटना की जानकारी पर एसीपी हजरतगंज राघवेंद्र मिश्र, डीसीपी मध्य समेत आलाधिकारी मौके पर पहुंच गए। फोरेंसिक टीम पहुंची घटनास्थल का निरीक्षण किया गया। पुलिस ने विनय को हिरासत में ले लिया।

सपा एमएलसी के भाई की है अवैध पिस्टल
एसीपी हजरतगंज ने बताया कि अवैध पिस्टल सपा एमएलसी पंकज यादव की है। पंकज की निशानदेही पर पिस्टल और एक मैगजीन बरामद कर ली गई है। पंकज के कई सालों से यह पिस्टल अवैध रूप से रखे था। इस बात की पड़ताल की जा रही है कि वह पिस्टल कहां से लेकर आया था। उसे पिस्टल कैसे मिली। चारों आरोपितों को हिरसात में लेकर गहन पूछताछ जारी है। पंकज अपने साथियों को पिस्टल दिखा रहा था। पंकज से पिस्टल राकेश ने ली और फिर विनय देख रहा था। इस दौरान विनय से ट्रिगर दबने के कारण गोली चली।

गहरे दोस्त हैं पांचों
पुलिस ने बताया कि पार्टी के दौरान सभी बीयर और शराब पी रहे थे। नशे में धुत थे। मौके से पुलिस को करीब 20 कैन बीयर के मिले हैं। इसके साथ ही अन्य चीजें भी मिली हैं। नशे के दौरान पिस्टल देखने दिखाने में विनय से ट्रिगर दबने के कारण हत्या हुई है। एसीपी हजरतगंज ने बताया कि सूचना पर राकेश के परिवारीजन भी मौके पर आ गए हैं। उनसे पूछताछ में पता चला कि राकेश मूल रूप से सतरिख बाराबंकी का रहे वाला है। यहां वह प्राइवेट फाइनेंस का काम करता था। राकेश, विनय और पंकज समेत दोनों अन्य दोस्त बहुत ही घनिष्ट मित्र थे। यह लोग कक्षा आठ से स्नातक का साथ पढ़े थे। राकेश के परिवारीजन जो भी तहरीर देंगे उसके आधार पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.