नई दिल्ली: बिहार विधानसभा चुनावों में शिवसेना कहीं नहीं है और उसको मिले कुल वोट एक प्रतिशत का 20वां हिस्सा है लेकिन इसके बावजूद शिवसेना कह रही है कि बिहार में अगर नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बनते हैं तो इसका श्रेय उन्हें जाएगा। बुधवार को आए शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ के संपादकीय में यह बात कही है।
संपादकीय में लिखा है, पूरे देश की निगाहें बिहार विधानसभा चुनाव की ओर लगी हुई थीं। मतदान के पश्चात जो ‘एग्जिट’ पोल आदि दिखाए गए, उसमें आर-पार की लड़ाई होने की तस्वीर दिखी। नतीजे भी लगभग उसी तरह के आए। आर-पार की लड़ाई में ‘एनडीए’ अर्थात भाजपा-नीतीश कुमार गठबंधन को बढ़त मिली है।
लेकिन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के ‘जद-यू’ को झटका लगा है। यह भी अपेक्षानुसार ही हुआ है। बिहार में फिर से राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन की सरकार आई है। लेकिन नीतीश कुमार फिर से मुख्यमंत्री बनेंगे क्या? यह मामला अधर में है। नीतीश कुमार की संयुक्त जनता दल 50 सीटों का आंकड़ा भी नहीं छू पाई और भाजपा ने 40 का आंकड़ा पार किया।
संपादकीय में आगे लिखा गया है, नीतीश कुमार की पार्टी को कम सीटें मिलने के बावजूद वे ही मुख्यमंत्री बनेंगे, ऐसा अमित शाह को घोषणा करनी पड़ी थी। ऐसा ही वचन उन्होंने 2019 के चुनाव में शिवसेना को भी दिया था। उस वचन को नहीं निभाया गया और महाराष्ट्र में नया राजनीतिक महाभारत हुआ। अब कम सीटें मिलने के बावजूद नीतीश कुमार को दिया गया वचन पूरा किया गया तो इसका श्रेय शिवसेना को देना होगा।
बिहार में क्या होगा, यह अगले 42 घंटों में साफ हो जाएगा। बिहार के चुनाव में ‘एनडीए’ ने बढ़त ले ली है लेकिन वहां की राजनीति में नए तेजस्वी पर्व की शुरुआत हो गई है। नया युवा तेजस्वी यादव का चेहरा उदित हुआ है। उसने प्रधानमंत्री मोदी, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, अमित शाह, नड्डा और सारे सत्ताधीशों से अकेले लड़ाई लड़ी।
तेजस्वी यादव ने राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन को जोरदार चुनौती दी। बिहार चुनाव में मोदी का करिश्मा काम आया, ऐसा जिन्हें लग रहा होगा वे तेजस्वी यादव के साथ अन्याय कर रहे हैं। शुरुआत में एकतरफा लगनेवाली जीत मुकाबले वाली हो गई और वह सिर्फ तेजस्वी यादव की तूफानी प्रचार सभाओं के कारण ही हुआ। तेजस्वी ने एक महागठबंधन बनाया।
उसमें कांग्रेस सहित वाम दल भी शामिल हुए। लेकिन कांग्रेस पार्टी की फिसलन का बड़ा झटका तेजस्वी यादव को लगा। वाम दलों ने कम सीटों पर चुनाव लड़ने के बावजूद अच्छा प्रदर्शन किया। हालांकि, कांग्रेस वैसा नहीं कर पाई।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.