jaswantभारतीय जनता पार्टी ने बाड़मेर से अपने पार्टी उम्मीदवार के खिलाफ निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ रहे वरिष्ठ नेता जसवंत सिंह को शनिवार को नाम वापस लेने के आखिरी दिन अपना नामांकन वापस नहीं लेने पर पार्टी से निष्कासित कर दिया। गौर हो कि पार्टी की ओर से टिकट न मिलने पर जसवंत ने बीते दिनों बगावती तेवर अपना लिए थे। जिसके बाद बीजेपी ने उनके नामांकन वापसी तक इंतजार की बात कही थी। भाजपा की ओर से जारी वक्तव्य के अनुसार पार्टी अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने 76 वर्षीय सिंह को छह साल के लिए निष्कासित करने का फैसला किया। पार्टी ने राजस्थान के ही सीकर से भाजपा उम्मीदवार के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ रहे एक और बागी नेता तथा पूर्व केंद्रीय मंत्री सुभाष महरिया को भी निष्कासित कर दिया। भाजपा का टिकट नहीं मिलने से नाराज जसवंत सिंह बाड़मेर से पार्टी उम्मीदवार सोनाराम चौधरी के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। सोनाराम कुछ दिन पहले कांग्रेस छोडक़र भाजपा में आए हैं। भाजपा का विधान पार्टी नेताओं को अपने अधिकृत उम्मीदवारों के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लडऩे की इजाजत नहीं देता। भाजपा महासचिव जे पी नड्ढा द्वारा जारी पार्टी के बयान में कहा गया कि पार्टी के विधान की धारा 25 ;9द्ध के अनुसार पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे किसी भी नेता को तत्काल निष्कासन की कार्रवाई का सामना करना पड़ता है। बयान के मुताबिकए तदानुरूप भाजपा अध्यक्ष के निर्देशों के अनुसार सांसद जसवंत सिंह और पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी के विशेष आमंत्रित सदस्य सुभाष महरिया को तत्काल प्रभाव से छह साल के लिए पार्टी से निष्कासित कर दिया गया है।
भाजपा का टिकट नहीं मिलने से नाराज जसवंत सिंह बाड़मेर से पार्टी उम्मीदवार सोनाराम चौधरी के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। सोनाराम कुछ दिन पहले कांग्रेस छोडक़र भाजपा में आये हैं। भाजपा ने बयान में कहा कि पूर्व विदेश मंत्री और पूर्व वित्त मंत्री सिंह के खिलाफ तथा महरिया के विरद्ध कार्रवाई की गई है क्योंकि भाजपा का विधान पार्टी नेताओं को अपने अधिकृत उम्मीदवारों के खिलाफ निर्दलीय चुनाव लडऩे की इजाजत नहीं देता। जसवंत सिंह ने नामांकन वापस लेने से इनकार करते हुए भाजपा नेतृत्व पर निशाना साधा। जसवंत सिंह को पांच साल में दूसरी बार इस तरह भाजपा से निष्कासित किया गया है। साल 2009 में भी उन्हें पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तारीफ करने वाली उनकी विवादास्पद किताब के लिए निकाला गया था। हालांकि जून, 2010 में उन्हें फिर से पार्टी में वापस ले लिया गया।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.