atal bihariदिल्ली के नवभारत टाइम्स से साभार अक्षय मुकुल की रिपोर्ट
अशोक रोड स्थित बीजेपी मुख्यालय से पांच मिनट की दूरी पर अटल बिहारी वाजपेयी का घर है। अपने कृष्णा मेनन मार्ग वाले बंगले में अटल बिहारी वाजपेयी खामोशी से वीलचेयर पर बैठे या तो टीवी देखते रहते हैं या अखबारों की सुर्खियां पढ़ते रहते हैं। 2009 में एक स्ट्रोक पडऩे के बाद से अपने भाषणों से भीड़ को बांध देने वाले वाजपेयी अब खामोश रहते हैं। कुल तीन बार भारत के प्रधानमंत्री रहे अटल जी ने करीब एक दशक पहले राजनीति को अलविदा कह दिया था। बीजेपी पर नरेंद्र मोदी की पकड़ मजबूत हो गई है जिन्हें वह 2002 दंगों के बाद मुख्यमंत्री पद से हटा देना चाहते थे। पार्टी में वाजपेयी के कुछ करीबी दोस्त और फालोअर खुद को अलग-थलग सा महसूस कर रहे हैं। पुराने सुनहरे दिनों की तरह अब कोई उनके पास न पार्टी से संबंधित शिकायतें लेकर आता है और न ही उनकी कविताएं सुनने। अटल जी के 60 साल पुराने दोस्त एनएम घटाटे, लाल कृष्ण आडवाणी और बीसी खंडूरी ही नियमित रूप से उनसे मिलने या उनकी बेटी नमिता से उनका हालचाल पूछने चले आते हैं। घटाटे लगभग हर हफ्ते या कभी हफ्ते में दो बार भी उनसे मिलने आते हैं। वह कहते हैं, श्मनमोहन सिंह नियमित रूप से अटल जी के स्वास्थ्य के बारे में पूछते हैं और उनके जन्मदिन पर उन्हें खुद कॉल कर विश करना कभी भी नहीं भूलते। घटाटे ने कहा, इन दोनों का साथ बहुत पुराना है। घटाटे बताते हैं कि कैसे तत्कालीन प्रधानमंत्री पीवी नरसिम्हा राव ने अटल जी के पास शिकायत करने के लिए फोन किया था कि विपक्ष द्वारा की गई बजट की बुराई दिल पर लेकर उनके वित्त मंत्री मनमोहन सिंह ने रिजाइन करने की पेशकश की है। अपने करियर का अधिकतर वक्त विपक्ष में बैठकर बिताने वाले वाजपेयी के निशाने पर नेहरू से लेकर इंदिरा गांधी तक रहे लेकिन उन्हें अहसास नहीं था कि उनकी आलोचना किसी को इतना दुख पहुंचा सकती है। घटाटे ने बताया कि वाजपेयी ने तुरंत मनमोहन सिंह को फोन लगाया और उन्हें कहा कि इस तरह की बातें दिल पर न लें। यह बातें सिर्फ राजनीतिक पॉइंट्स बनाने के लिए कही गई हैं। इस तरह राव सरकार को वाजपेयी ने बड़ी फजीहत से बचा लिया। वहीं से इस नई दोस्ती की शुरुआत हुई। घटाटे कहते हैं कि वाजपेयी आज भी मेंटली अलर्ट हैं लेकिन स्ट्रोक ने उनसे बोलने की ताकत छीन ली है। वह खुद को किताबों और लेखन में ही व्यस्त रखते हैं। घटाटे को वाजपेयी की खुशमिजाजी की कमी सबसे ज्यादा खलती है। 2004 में चुनाव हारने के बाद वाजपेयी ने एनडीए के गठबंधन के एक्सपेरिमेंट की सफलता पर चार पेज का आर्टिकल लिखा। उसमें उन्होंने लिखा कि कैसे कांग्रेस ने भी यही फार्मूला अपनाया और गठबंधन की राजनीति का महत्व हमेशा बरकरार रहेगा।
घटाटे बताते हैं कि वाजपेयी के दिन का ज्यादा वक्त डॉक्टरों के साथ बीतता है। वह कहते हैंए मैं वहां जाता हूं और उन्हें देखता रहता हूं या उनके परिवार वालों से बात कर लेता हूं। वह समझते सब कुछ हैं लेकिन बोल नहीं पाते। वाजपेयी को उनका फेवरिट खाना. चाइनीज़ और प्रॉन्स थोड़ा ही दिया जाता है। खबर है कि पिछली एनडीए सरकार में उनके डेप्युटी पीएम रहे आडवाणी ने लोगों को काफी उत्साहित होकर बताया है कि वाजपेयी जी से उनका हर बात पर विचार विमर्श होता है। जब उनसे पूछा गया कि क्या बीजेपी नेता अब भी सलाह के लिए उनके पास जाते हैंए तो उन्होंने अप्रकट रूप से कहा है, श्अगर उन्हें जरूरत हो तो। घटाटे उनसे 1950 में पहली बार मिले थे। वाजपेयी घटाटे के पिता को जानते थे। उन्होंने घटाटे को अपनी दिल्ली विंग में लिया और उन्हें छोटे भाई की तरह रखा। घटाटे को वाजपेयी का हंसमुख नेचर बहुत याद आता है। जब घटाटे ने उन्हें मनमोहन सिंह के पहले नैशनल सिक्यॉरिटी अडवाइजर की मौत के बारे में बताया तो वाजपेयी ने कहा थाए श्वह एक अच्छा आदमी था। लेकिन उसकी दिक्कत यह थी कि वह बहुत मेहनत करता था और परिणाम के बारे में बहुत ज्यादा सोचता था। घटाटे ने जब कहा कि वाजपेयी के नैशनल सिक्यॉरिटी अडवाइजर ब्रजेश मिश्रा भी बहुत मेहनती थे तो उन्होंने शरारती मुस्कुराहट के साथ कहाए श्हांए ब्रजेश भी मेहनती था लेकिन उस वक्त परिणाम की चिंता मैं करता था।श् घटाटे वाजपेयी के चुटकुले और हाजिरजवाबी को एक किताब में संजो रहे हैं। अब तक उन्हें करीब 80 जोक्स मिल चुके हैं और उन्हें उम्मीद है कि और भी बड़ी आसानी से मिल जाएंगे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.