वाराणसी: उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल अपने तीन दिवसीय दौरे पर वाराणसी पहुंची है. बुधवार को राज्यपाल ने विद्या भारती के प्रतिनिधियों, अध्यापक, अध्यापिकाओं और आईसीडीएस के आंगनवाड़ी केंद्र की सीडीपीओ और सुपरवाइजरों के साथ बैठक की. इस दौरान उन्होंने कहा की नई शिक्षा नीति में बच्चों को संस्कारित शिक्षा, ज्ञानवर्धक शिक्षा, रोजगारपरक शिक्षा सहित बच्चों के सर्वांगीण विकास के समस्त आयाम समाहित हैं.

आंगनवाड़ी सुपरवाइजर पूरा समय केंद्रों पर दें
राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने कहा कि वाराणसी में भ्रमण के दौरान आंगनबाड़ी केंद्र और प्राइमरी स्कूल में सुधार और परिवर्तन दिखता है. यहां अच्छा कार्य हो रहा है. सरकार से अरबों रुपए बच्चों, महिलाओं, शिक्षा के उत्थान की योजनाओं पर दिए जाते हैं. कार्यों का अनुश्रवण योजना के उद्देश्य से हुए लाभ, उपयोगिता परिवर्तन पर किया जाए. केवल बजट व्यय पर आधारित नहीं हो. आंगनवाड़ी सुपरवाइजर पूरा समय केंद्रों पर दें और कार्यकर्ता द्वारा किए जा रहे कार्यों को भौतिक रूप से देखें. जहां समस्या हो उसे निस्तारित करें.

मकान अच्छा चाहिए तो नीव मजबूत हो
आनंदीबेन पटेल ने तीन से छह वर्ष के बच्चों के बीच नया पाठ्यक्रम बनाकर आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और प्राथमिक विद्यालय के अध्यापकों को प्रशिक्षण देकर लागू किए जाने का सुझाव दिया. उन्होंने कहा कि छोटे बच्चों को गांव में भ्रमण कराया जाए. बच्चों में जो प्रतिभा है उसकी जानकारी अभिभावकों को होनी चाहिए. उन्होंने आंगनवाड़ी केंद्रों, विद्यालयों एवं विश्वविद्यालयों की दीवार पर कुछ मोटिवेटेड स्लोगन जैसे-“अच्छे फल के लिए बीज अच्छा हो”, “मकान अच्छा चाहिए तो नीव मजबूत हो”, “देश व राष्ट्र मजबूत चाहिए तो शिक्षा की चिंता करें” और “परिवार अच्छा चाहिए तो बाल्यावस्था की चिंता करें” को लिखवा कर बच्चों में अच्छा संदेश प्रसारित किए जाने पर भी विशेष जोर दिया.

शिक्षा क्रियाकलापों की ली जानकारी
बैठक में विद्या भारती द्वारा छोटे बच्चों के लिए संचालित शिशु वाटिका के क्रियाकलापों का प्रजेंटेशन किया. शिशु वाटिका में आनंदमई शिक्षा की परिकल्पना के साथ नई शिक्षा के प्रावधानों को समाहित किया गया है. बच्चों की विभिन्न आयामों यथा- क्रीड़ांगन, विज्ञानशाला, चित्र पुस्तकालय, कला कौशल, खेल खेल में शिक्षा, रंगमंच, शिशु संस्कार आदि से घर जैसा माहौल में आनंददायी शिक्षा दी जाती है.
गुजरात में किए प्रयोग पर की चर्चा
आनंदीबेन पटेल ने कहा कि गुजरात में विद्या भारती के उपयोगी आयामों से महिला बाल कल्याण में प्रशिक्षण कराकर क्रियान्वित किया जा रहा है, जिसके अच्छे परिणाम मिले हैं. उन्होंने सुझाव देते हुए कहा कि शिक्षा में कुछ वर्षों के अंतराल पर 20-20 फीसदी पाठ्यक्रम में बदलाव करने से नयापन आता है और गुणवत्ता बढ़ती है. उन्होंने गुजरात में किए गए प्रयोगों का जिक्र करते हुए कहा कि अच्छे संदर्भों और आयामों को हमें अपने पाठ्यक्रम और कार्यों में शामिल करना चाहिए, चाहे वह किसी प्राइवेट संस्था से मिल रही हो. नई शिक्षा नीति पर विद्या भारती ने चिंतन किया और बाल्यकाल शिक्षा पर अच्छी पुस्तिका बनाई है.
मंत्री स्वाति सिंह ने भी रखी अपनी बात
मंत्री स्वाति सिंह ने कहा कि विद्या भारती और आंगनबाड़ी की संयुक्त बैठक एक अच्छी कार्यशाला के रूप में हुई. विद्या भारती द्वारा दिए गए प्रेजेंटेशन के कार्य आंगनबाड़ी में बहुत अच्छे परिणाम देंगे. इसके लिए भविष्य में भी महिला बाल विकास विभाग के अधिकारी और कार्मिक विद्या भारती से संपर्क कर वह अपने केंद्रों पर इसे लागू करेंगे, जिसका अच्छा परिणाम होगा.
आंगनबाड़ी केंद्रों पर संचालित हो पोषण वाटिका
विद्या भारती के विजय उपाध्याय, राम मनोहर और मीरा पाठक ने विद्या भारती द्वारा संस्कारित शिक्षा के क्षेत्र में किए जा रहे कार्यों गतिविधियों और बच्चों के लिए बनाई गई पुस्तिका आदि का प्रजेंटेशन किया. डीएम ने शिक्षा वाटिका की तर्ज पर आंगनवाड़ी केंद्रों पर पोषण वाटिका संचालित की जा रही है. उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि बच्चों के शिक्षा और उनके सर्वांगीण विकास के लिए राज्यपाल का मार्ग दर्शन दुर्लभ संजोग है.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.