लखनऊः राजधानी के कुसमरा हलवापुर गांव में ढाई लाख रुपये की लागत से बनी गोशाला का निर्माण पूरी तरह से भ्रष्टाचार की भेट चढ़ गया है. करीब चार बीघे से अधिक जगह में बनी गोशाला में जानवरों के लिए किसी तरह की व्यवस्था नहीं की गई है और न ही कोई पशु हैं.
गोशाला निर्माण में पूरी तरह से अव्यवस्था
उत्तर प्रदेश सरकार ने किसानों की समस्याओं को देखते हुए हर ब्लॉक में गोशालाओं का निर्माण कराया है. राजधानी से सटा हुआ कुशमौरा हलवापुर गांव में आवारा पशुओं से किसानों को राहत के लिए 2 साल पहले उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा गोशाला का निर्माण ढाई लाख की लागत से कराया गया था. इस गोशाला में मानको के आधार पर किसी तरह का बाउंड्री नहीं की गई. खानापूर्ति के लिए चारों तरफ से तार लगा दिए गए. गोशाला के निर्माण में पूरी तरह घपलेबाजी हुई है. जानवरों को लेकर गोशाला में व्यवस्था नहीं की गई है न ही कोई जानवर रखे गए हैं. स्थानीय प्रशासन ने सरकार की मंशा पर पूरी तरह से पलीता लगा दिया है.
काकोरी विकासखंड में छुट्टा पशुओं का आतंक
काकोरी विकासखंड में छुट्टा पशुओं का आतंक इस कदर बढ़ गया है कि किसान परेशान हो गए हैं. किसानों की राहत के लिए गोशाला का निर्माण कराया गया है, लेकिन मौजूदा गोशाला में किसी तरह का इंतजाम नहीं किया गया है. स्थानीय प्रशासन और प्रधान की मिलीभगत से पूरी तरह से बंदरबांट का खेल चल रहा है. जब इसके बारे में प्रधान से बात करने की कोशिश की गई तो वह बचते नजर आए.
गोशाला में जानवरों के लिए नहीं कोई व्यवस्था
सरवन यादव ने बताया कि वह गोशाला की देखभाल करते हैं. प्रधान की लापरवाही से गोशाला में गायों के लिए खाने के लिए कुछ नहीं है, इसलिए जानवर गोशाला में लाकर नहीं रखे जा रहे हैं. अगनु यादव ने बताया कि गोशाला दो साल पुरानी है. गोशाला में सुविधाओं की कमी होने के कारण बाहर से गाय लाकर नहीं रखी जा रही हैं.
गोशाला के नाम पर की गई खानापूर्ति
स्थानीय किसान प्रमोद तिवारी ने बताया कि यहां पर गोशाला केवल खानापूर्ति के लिए बनाई गई है. गोशाला में कोई जानवर पकड़कर नहीं रखा जाता है. इसकी वजह से किसानों की फसलें जानवर चर जाते हैं. इसलिए किसानों को खेतों में हर बार बाड़ लगाने की जरूरत पड़ती है. इससे किसानों पर अलग से खर्चा का बोझ पड़ता है. वहीं, जब ईटीवी संवाददाता ने स्थानीय प्रधान बीना मिश्रा से बात करने की कोशिश की तो वह टालमटोल करती नजर आईं.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.