लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ स्थित मेदांता हॉस्पिटल में गुरुवार को वर्ल्ड स्ट्रोक डे मनाया गया. इस अवसर पर हॉस्पिटल द्वारा आयोजित कार्यक्रम में नर्सिंग एवं इमरजेंसी कर्मचारिओं को स्ट्रोक (पक्षाघात) के बारे में जानकारी दी गयी जिससे स्ट्रोक के मरीजों का त्वरित एवं समुचित उपलब्ध कराया जा सके.
कार्यक्रम में उपस्थित विशेषज्ञों ने यह भी जोर दे कर बताया की इस्विमीक स्ट्रोक के मरीजों का 4.5 घंटे में उपचार शुरू किया जाए. कार्यक्रम में एंजेल ग्रुप द्वारा नर्सिंग कर्मचारियों को सर्टिफिकेट वितरण किये गए कार्यक्रम में उपस्थित न्यूरोलॉजी विभाग के विशेषज्ञ डॉ. ऋत्विज बिहारी एवं डॉ. सुधाकर पांडेय ने थ्रोम्बोल्य्सिस एवं कोविड से सम्बंधित स्ट्रोक के उपचार के बारे में विस्तार से समझाया.
वर्ल्ड स्ट्रोक डे के अवसर में आयोजित इस कार्यक्रम में मैदाता हॉस्पिटल, लखनऊ के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. राकेश कपूर एवं न्यूरो साइंसेज के विभागाध्यक्ष डॉ. अनूप कुमार ठक्कर, डॉ. रविशंकर डॉ. लोकेन्द्र गुप्ता, डॉ. संदीप कॉलरा, डॉ. रोहित अग्रवाल एवं नर्सिंग डायरेक्टर प्रिसिला फर्नांडिस उपस्थित रही.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.