रत्ना अस्थाना

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने शुक्रवार 23 अक्टूबर को प्रदेश के 1535 थानों में महिला हेल्प डेस्क का ऑनलाइन उद्घाटन किया। इन थानों में महिलाओं से संबंधित समस्याओं का जल्द से जल्द निवारण किया जाएगा। इन थानों में निर्धारित समय सीमा के अंदर फाइनल रिपोर्ट भी लगा दी जाएगी। महिला और बालिकाओं की समस्या के निदान और सुरक्षा के संबंध में अलग से महिला कांस्टेबल ही नहीं बल्कि अलग से कक्ष की सुविधा भी दी जाएगी। मुख्यमंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये हेल्प डेस्क पर तैनात महिला पुलिस कर्मियों से संवाद भी किया। मिशन शक्ति के तहत महिलाओं और बच्चों के साथ होने वाले अपराधों में बेहतर कार्रवाई का हवाला देते हुए योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उनकी सरकार की नियत और नीति में कोई अंतर नहीं है इसलिए वह सर्वजन के हिताय सर्वजन सुखाय के तहत तुरंत निर्णय लेती है।
पहली बार समुद्र से गगन तक त्रिदेवियां
पहली बार भारतीय नौसेना ने डॉर्नियर विमान पर मैरीटाइम-समुद्री टोही-एमआर मिशन के लिए तीन महिला पायलटों का चयन किया गया है। इसमें लेफ्टिनेंट दिव्या शर्मा, लेफ्टिनेंट शुभांगी स्वरूप और लेफ्टिनेंट शिवांगी अब डॉर्नियर विमान पर सभी एमआर मिशन पर जाने के लिए तैयार हैं। तीनों महिलाएं पायलट 27वीं डॉर्नियर ऑपरेशनल फ्लाइंग ट्रेनिंग-डीओएफटी कोर्स के छह पायलटों में शामिल थीं। उन्होंने गुरुवार 22 अक्टूबर को आईएनएस गरुड़ में आयोजित पासिंग आउट में पूरी तरह से ऑपरेशनल समुद्री टोही-एमआर पायलट के रूप में स्नातक डिग्री हासिल की।
पिंक रिक्शा बना महिलाओं के आत्मनिर्भरता का साधन
नगर निगम की पहल पर लखनऊ में पिंक रिक्शा का संचालन शुक्रवार 23 अक्टूबर से शुरू किया गया है। महापौर संयुक्ता भाटिया ने कहा कि मिशन शक्ति के तहत नगर निगम महिलाओं को आत्मनिर्भर और सशक्त बनाने के लिए हर मुमकिन प्रयास कर रहा है। महिलाएं अब हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं। पहले यह कार्य केवल पुरुषों तक ही सीमित हुआ करते थे, पर आज महिलाएं रिक्शा चलाने से लेकर गाड़ियां तक चला रही हैं। लखनऊ में डूडा की स्वयं सहायता समूह के जरिए जरूरतमंद 50 महिलाओं का चयन कर उन्हें रोजगार से जोड़ा गया है।
महिलाओं को कूड़ा कलेक्शन के लिए रिक्शा ट्रॉली देने के साथ ही उन्हें यूजर चार्ज वसूलने का अधिकार भी दिया गया है। कानपुर रोड के विभिन्न सेक्टरों में 50 पिंक रिक्शा ट्राली से महिलाएं घर-घर से कूड़ा उठाएंगी। पिंक साड़ी पहने यह महिलाकर्मी रोजाना सुबह 7 बजे से लोगों के घरों के बाहर दस्तक देना शुरू करेंगी। शुक्रवार को नगर आयुक्त अजय कुमार द्विवेदी ने बताया कि जोन 8 के विद्यावती प्रथम वार्ड के सेक्टर सी, एफ, एफ विस्तार, सेक्टर एन व एम के लगभग 5600 घरों से यह रोजाना डोर टू डोर कूड़ा उठाएंगी।
इस योजना के तहत 110 रुपए प्रति घर की दर से यह महिलाएं, लोगों से यूजर चार्ज भी वसूलेंगी। यूजर चार्ज नगर निगम में जमा होगा। नगर निगम की तरफ से इन्हें गुलाबी साड़ी और आई कार्ड भी उपलब्ध कराया गया है। हरी डस्टबिन में वह गीला कूड़ा, नीले में सूखा, काले में घरेलू खतरनाक कूड़ा तथा पीले में मेडिकल व सेनेटरी कचरा रखेंगी। इन महिलाओं को प्रतिमाह 6000 मानदेय मिलेगा। नगर निगम में इसके लिए अलग खाता बनेगा। उसी खाते में रकम जमा होगी फिर इसी से इन महिलाओं को मानदेय दिया जाएगा। यूजर चार्ज के लिए महिलाओं को नगर निगम की ओर से रसीद दी जाएगी।
ट्रेन में मेरी सहेली करेगी सुरक्षा
अब ट्रेन में कोई महिला अकेले सफर कर रही है तो अब उसे बिल्कुल भी डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि उनकी सुरक्षा मेरी सहेली करेगी। इसके लिए आरपीएफ की महिला सिपाही, सेंट्रल स्टेशन पर हर वक्त मुस्तैद रहेंगी। गुरुवार 22 अक्टूबर से शुरू हुई ‘मेरी सहेली’ अभियान के क्रम में सेंट्रल स्टेशन पर पांच-पांच महिला सिपाहियों की तीन टीमें बनायी गई हैं। यह टीमें 24 घंटे सुरक्षा और जागरुकता के इस अभियान में तत्पर रहेंगी टीम की प्रमुख एसआई अंजना बताती हैं कि महिलाओं को यात्रा के दौरान आने वाली परेशानियों और संभावित खतरों के प्रति आगाह करते हुए सुरक्षात्मक उपायों की जानकारी पंपलेट्स के माध्यम से दी जा रही है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.