2013_03_14_00_26_32_Sonia-Gandhi340दबंग दुनिया मुम्बई के डिपटी न्यूज एडीटर रोहित तिवारी का रोचक लेख
अपने देश में सत्ता सुंदरी की कुर्सी पर विराजमान होने का सपना हर बड़ा नेता देखता है। देश में शायद ही कोई ऐसा नामचीन और राजनीति में अच्छी पकड़ रखने वाला नेता होगाए जो लोकतंत्र की सुनहरी कुर्सी पर अपना अधिकार जमाना ना चाहता हो। जी हांए कुर्सी राजनीति की एक ऐसी लजीज़ मलाई है, जिसे हर कोई चखना चाहता है। इसीलिए तो अगर हम पुराने आंकड़ों पर नजऱ डालें तो लगभग हर 10 में से तीन सांसद एक ही परिवार से आते हैं।
नेहरू-गांधी परिवार है सबसे आगे
अब इस तरह से देखा जाए तो नेहरू.गांधी परिवार इस सूची में सबसे ऊपर है। इस परिवार में चार ही लोग हैं. सोनिया गांधी व राहुल गांधी और मेनका गांधी व वरुण गांधी। सोनिया व राहुल कांग्रेस से लोकसभा सदस्य हैं और मेनका व वरुण भाजपा से लोकसभा सदस्य हैं।
बहुत लंबी है सूची
तमिलनाडु का करुणानिधि परिवार, उत्तर प्रदेश का यादव व चौधरी परिवार, उत्तराखंड का बहुगुणा परिवार, मध्यप्रदेश का सिंधिया परिवार, बिहार का लालू और पासवान परिवार, जम्मू-कश्मीर का अब्दुल्ला व मुफ्ती परिवार, महाराष्ट्र का पवार व ठाकरे परिवार, पंजाब का बादल व पटियाला महाराजा परिवार, बंगाल का दासमुंशी परिवार, कर्नाटक का देवेगौड़ा परिवार, आंध्र का एनटी रामाराव परिवार, उड़ीसा का पटनायक व सत्पथी परिवार। यह सूची बहुत लंबी है और फिर भी पूरी नहीं कही जा सकती।
30 वर्ष से कम उम्र के सभी सदस्य वंशानुगत
मौजूदा लोकसभा में 28.6 फीसदी सदस्य वंशानुगत हैं, 6.4 फीसदी इंडस्ट्री या बिजनेस से सीधे आए हैं और 9.6 फीसदी सदस्य अन्य तरह के कनेक्शनों से लोकसभा की मलाई छान रहे हैं। आधे से भी यानी 46.8 फीसदी सदस्य ही मात्र ऐसे हैं, जो वंशानुगत नहीं हैं। इसके अलावा इंडस्ट्री या बिजनेस या किसी अन्य कनेक्शन के चलते टिकट से उपकृत किए हुए नहीं हैं। मौजूदा लोकसभा में 30 वर्ष से कम उम्र के सभी सदस्य वंशानुगत हैं। 31 से 40 वर्ष के बीच की उम्र वालों में 65 फीसदी सदस्य वंशानुगत हैं। 27 सदस्य तो हाइपर वंशानुगत हैं और इनमें से 19 कांग्रेसी हैं। यदि महिला सदस्यों पर नजर डालें तो करीब 70 फीसदी महिला सदस्य राजनीतिक पारिवारिक पृष्ठभूमि वाली हैं। राजनीति के अनुभवी लोगों का मानना है कि यदि संसद में 33 फीसदी आरक्षण का कानून पास हो गया तो यह प्रतिशत और बढ़ जाएगा।
क्षेत्रीय दल भी कम नहीं
अब जरा क्षेत्रीय दलों पर नजर डालें तो पता चलता है कि चौधरी अजीत सिंह की राष्ट्रीय लोकदल पार्टी के सभी पांच लोकसभा सदस्य वंशानुगत हैं। शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के 9 सदस्यों में से 7 वंशानुगत हैं। फारुख अब्दुल्ला की नेशनल कांफ्रेंस के 3 सदस्यों में से 2 वंशानुगत हैं। शिरोमणि अकाली दल के 4 सदस्यों में से 2 और बीजू जनता दल के 14 सदस्यों में से 6 वंशानुगत हैं।
झारखंड में कोई भी सांसद वंशानुगत नहीं
अगर राज्यों पर नजर डालें (सूची देखें) तो पंजाब में 77 फीसदी लोकसभा सदस्य वंशानुगत हैं। इसके बाद दिल्ली में 71.4 फीसदी, हरियाणा में 70 फीसदी, उत्तर प्रदेश में 38.8 फीसदी, आंध्र प्रदेश व उड़ीसा में 38.1 फीसदी सदस्य वंशानुगत हैं। पंजाब के 13 सांसदों में से 10, दिल्ली के 7 सांसदों में से 5, हरियाणा के 10 सांसदों में 7 और उत्तर प्रदेश के 80 सांसदों में से 31 वंशानुगत हैं। बिहार में सिर्फ 9 लोकसभा सांसद वंशानुगत हैं जो कुल लोकसभा सांसदों का 22.5 फीसदी है। झारखंड में कोई भी सांसद वंशानुगत नहीं है।
वंशानुगत मेम्बर्स हैं औसतन 4.5 गुना अमीर
आइए अब इन सदस्यों की संपत्ति की बात करें और देखें कि क्या वंशानुगत सदस्यों और गैर वंशानुगत सदस्यों की संपत्ति के बीच उनकी पृष्ठभूमि के साथ कोई गहरा संबंध है? इस सवाल का जवाब हमें एक अध्ययन से मिलता है। इसके मुताबिक वंशानुगत लोकसभा सदस्य गैर वंशानुगत सदस्य के मुकाबले औसतन 4.5 गुना अमीर हैं। यदि वंशानुगत सदस्यों में उन सदस्यों की संपत्ति देखी जाए, जिनके एक से ज्यादा पारिवारिक कनेक्शन हैं। यानी हाइपर वंशानुगत सदस्य तो पता चलता है कि हाइपर वंशानुगत सदस्य बाकी वंशानुगत सदस्यों के मुकाबले लगभग दोगुना संपत्ति वाले हैं। हाइपर वंशानुगत सदस्यों में नवीन जिंदल, वरुण गांधी, राहुल गांधी, संदीप दीक्षित जैसे सदस्य आते हैं। यदि लोकसभा के सबसे धनी 20 सांसदों की सूची बनाई जाए तो उसमें 15 सदस्य वंशानुगत होंगे।
ज़रा इन पर फरमाइए गौर
नेहरू खानदान
कांग्रेस
– जवाहरलाल नेहरू (प्रधानमंत्री)
– विजयालक्ष्मी पंडित (नेहरू की बहन, सांसद, राजनयिक)
– कृष्णा हठीसिंह (नेहरू की बहन, कांग्रेस और स्वराज पार्टी में सक्रिय)
– इंदिरा गांधी (प्रधानमंत्री)
– उमा नेहरू (इंदिरा की चचेरी बहन, सांसद)
– अरुण नेहरू (उमा के पुत्र, मंत्री)
– संजय गांधी (सांसद, पार्टी महासचिव)
– राजीव गांधी (प्रधानमंत्री)
– सोनिया गांधी (सांसद)
– राहुल गांधी (सांसद)
भाजपा
– मेनका गांधी (संजय गांधी की पत्नी, सांसद)
– वरुण गांधी (संजय के पुत्र, सांसद)
अब्दुल्ला खानदान (जम्मू-कश्मीर, नेशनल कॉन्फ्रेंस)
– शेख मुहम्मद अब्दुल्ला
– बेगम अकबर अब्दुल्ला (शेख की पत्नी, सांसद)
– फारूख अब्दुल्ला (शेख के पुत्र, मुख्यमंत्री)
– उमर अब्दुल्ला (फारूख के पुत्र, मुख्यमंत्री)
– बेगम खालिदा शाह (शेख की पुत्री)
– गुलाम मोहम्मद शाह (शेख के दामाद)
मुफ्ती खानदान
– मुफ्ती मोहम्मद सईद
– मेहबूबा मुफ्ती (मुफ्ती की बेटी)
दीक्षित खानदान (दिल्ली, पीपुल्स डेमोक्रेटिक फ्रंट)
– उमा शंकर दीक्षित (सांसद, मंत्री)
– शीला दीक्षित (बहू, मुख्यमंत्री, सांसद, मंत्री, राज्यपाल)
– संदीप दीक्षित (शीला के पुत्र, सांसद )
बेअंत सिंह का खानदान (पंजाब)
– बेअंत सिंह (मुख्यमंत्री)
– गुरुकंवल कौर (पत्नी, एमएलए)
– रणजीत सिंह (पुत्र, एमपी)
– तेज प्रकाश सिंह (विधायक, मंत्री)
– गुरुकीरत सिंह (विधायक)
पटियाला खानदान
– यादवेंद्र सिंह (पटियाला के राजा)
– मोहिंदर कौर (सांसद)
– अमरिंदर सिंह (मुख्यमंत्री)
– परनीत कौर (अमरिंदर की पत्नी , विधायक, मंत्री, सांसद)
– रणिंदर सिंह (अमरिंदर का बेटा , विधायक, सांसद)
– मालविंदर सिंह (अमरिंदर के भाई, विधायक )
बादल खानदान
– प्रकाश सिंह बादल (मुख्यमंत्री, सांसद, मंत्री )
– सुखबीर सिंह बादल (प्रकाश के पुत्र, उप मुख्यमंत्री, पार्टी अध्यक्ष)
– हसीमरत कौर बादल ( सुखबीर की पत्नी , सांसद )
बराड खानदान
– जसविंदर सिंह बराड़ (विधायक, मंत्री)
– मंतर सिंह बराड़ (बेटा, विधायक)
– परमजीत कौर ढिल्लों (बेटी, नगर पालिका )
सिंधिया खानदान (मध्यप्रदेश)
– राजमाता विजया राजे सिंधिया (सांसद – भाजपा)
– माधवराव सिंधिया (बेटा, कांग्रेस सांसद, मंत्री)
– ज्योतिरादित्य सिंधिया (माधवराव के पुत्र, कांग्रेस, सांसद)
– यशोधरा राजे सिंधिया (विजयाराजे की बेटी, विधायक, भाजपा)
– वसुंधरा राजे सिंधिया (विजयाराजे की बेटी , मुख्यमंत्री)
– दुष्यंत सिंह (पुत्र , सांसद)
दिग्विजय सिंह का खानदान
– दिग्विजय सिंह (मुख्यमंत्री , सांसद, मंत्री)
– जयवर्धन सिंह (पुत्र, विधायक)
चरण सिंह का खानदान (हरियाणा)
– चौधरी चरण सिंह (सांसद )
– अजीत सिंह (पुत्र, सांसद, मंत्री )
– जयंत चौधरी (पौत्र म. प्र.)
देवीलाल खानदान (इंडियन नेशनल लोकदल)
– देवीलाल (उप प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री)
– ओम प्रकाश चौटाला (बेटा, मुख्यमंत्री)
– रंजीत सिंह (पुत्र, सांसद – कांग्रेस)
– अजय सिंह चौटाला (ओमप्रकाश का बेटा, विधायक)
– अभय सिंह चौटाला (ओमप्रकाश का बेटा, विधायक)
बंसीलाल खानदान (इंडियन नेशनल लोकदल)
– बंसीलाल (मुख्यमंत्री)
– सुरेंद्र सिंह (पुत्र, सांसद)
– किरण चौधरी (सुरेन्द्र की पत्नी, सांसद)
– श्रुति चौधरी (सुरेंद्र की पत्नी, सांसद)
– रणबीर सिंह महेंद्रा (बेटा, विधायक )
भजनलाल खानदान
– भजनलाल (मुख्यमंत्री )
– चंद्रमोहन (बेटा, उप मुख्यमंत्री)
– कुलदीप बिश्नोई (बेटा, सांसद )
– रेणुका बिश्नोई (कुलदीप की पत्नी , विधायक)
हुड्डा खानदान (कांग्रेस)
– रणबीर सिंह हुड्डा (सांसद, मंत्री)
– भूपिंदर सिंह हुड्डा (बेटा, मुख्यमंत्री)
– दीपेंद्र सिंह हुड्डा (भूपिंदर का बेटा, सांसद)
गौड़ा खानदान (कर्नाटक, जनता दल)
– एच.डी. देवेगौड़ा (प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री)
– एच.डी. कुमारस्वामी (बेटा, मुख्यमंत्री)
– एच डी रेवन्ना (बेटा, विधायक, मंत्री)
भाजपा
– वाईएसआर येदियुरप्पा (मुख्यमंत्री )
– वाई राघवेंद्र ( बेटा, सांसद )
– बी वाई विजेंद्र (बेटा)
– आरएन सोहनकुमार ( दामाद )
– प्रेरणा ट्रस्ट – येदियुरप्पा के परिवार द्वारा चलाया जाता है।
यादव खानदान (बिहार, राजद)
– लालू प्रसाद यादव (मुख्यमंत्री, सांसद, मंत्री)
– राबड़ी देवी (पत्नी, विधायक, मुख्यमंत्री)
– तेजस्वी यादव (बेटा, राजनेता)
– साधु यादव (राबड़ी के भाई, विधायक, सांसद)
– सुभाष यादव (राबड़ी के भाई, विधायक, सांसद)
– मीसा भारती (बेटी, राजद प्रत्याशी)
मिश्र खानदान (भाजपा)
– ललित नारायण मिश्र (सांसद , मंत्री )
– कामेश्वरी देवी (पत्नी, सांसद )
– विजय कुमार मिश्र (विधायक)
– गौरी शंकर राजहंस (नजदीकी रिश्तेदार, सांसद )
– डॉ. जगन्नाथ मिश्र (भाई, सांसद, मुख्यमंत्री )
– नीतीश मिश्र (जगन्नाथ के पुत्र , विधायक , मंत्री )
– ऋषि मिश्र (विजय कुमार के पुत्र , जदयू के महासचिव )
पासवान खानदान
– रामविलास पासवान (केंद्रीय मंत्री)
– पशुपति पारस (भाई, विधायक, मंत्री)
– रामचंद्र पासवान (भाई, सांसद )
– चिराग पासवान (पुत्र, लोकसभा के उम्मीदवार)
उत्तरप्रदेश (यादव खानदान, सपा)
– मुलायम सिंह यादव (मुख्यमंत्री, सांसद, मंत्री)
– अखिलेश यादव (बेटा, विधायक, सांसद , मुख्यमंत्री)
– डिंपल यादव (अखिलेश की पत्नी , सांसद )
– धर्मेंद्र यादव (उनके भतीजे, सांसद )
– शिवपाल सिंह यादव (भाई , विधायक, मंत्री)
– राम गोपाल यादव (भाई , सांसद)
खुर्शीद खानदान (कांग्रेस)
– खुर्शीद आलम खान (सांसद, मंत्री)
– सलमान खुर्शीद (बेटा, सांसद,मंत्री)
– लुईस खुर्शीद (सलमान की पत्नी, सांसद प्रत्याशी थी। हार गयी थीं।)
पवार खानदान (महाराष्ट्र)
– शरद पवार (पावर में 50 साल, कई बार केंद्रीय मंत्री रहे.)
– सुप्रिया सुले (पवार की बेटी)
– अजित पवार (उनके भतीजे , विधायक, डिप्टी सीएम)
देवड़ा खानदान (कांग्रेस)
– मुरली देवड़ा (केंद्रीय मंत्री)
– मिलिंद देवड़ा (पुत्र, केंद्रीय मंत्री)
ठाकरे खानदान (शिवसेना और एमएनएस)
– बाला साहेब ठाकरे (शिवसेना सुप्रीमो)
– श्रीकांत ठाकरे (भाई)
– उद्धव ठाकरे (बेटे)
– राज ठाकरे ( भतीजा)
– आदित्य ठाकरे (उद्धव के पुत्र)
पाटिल खानदान
– डीवाई पाटिल (कांग्रेस नेता, बिहार के राज्यपाल )
– सतेज पाटिल (भाई, विधायक, मंत्री )
नाईक खानदान
– गणेश नाईक (विधायक, मंत्री )
– संजीव नाईक (बेटा, सांसद )
– संदीप नाईक (बेटा, विधायक )
– तुकाराम नाईक (विपक्ष के नेता, नवी मुंबई नगर पालिका)
– ज्ञानेश्वर नाईक
– सागर नाईक (ज्ञानेश्वर, मेयर के पुत्र)
संगमा खानदान (मेघालय, नेशनल पीपुल्स पार्टी)
– पीए संगमा (विधायक, सांसद, मंत्री, विधानसभा अध्यक्ष )
– अगाथा संगमा (बेटी, विधायक, सांसद)
– कॉनरोड संगमा (बेटा, विधायक )
करुणानिधि खानदान (तमिलनाडु, द्रमुक)
– एम. करु णानिधि (मुख्यमंत्री)
– एमके अलागिरी (बेटा, विधायक, सांसद, मंत्री)
– एम के स्टालिन (बेटा, उप मुख्यमंत्री)
– कनिमोझी (बेटी, सांसद )
– मुरासोली मारन (उनके भतीजे , सांसद, मंत्री)
– दयानिधि मारन (मुरासोली के बेटे, सांसद, मंत्री)
एनटीआर खानदान (आंध्रप्रदेश, तेलुगूदेशम पार्टी)
– नंदमुरी तारक रामाराव या एनटी रामाराव या एनटीआर (मुख्यमंत्री )
– लक्षमी पार्वती (एनटीआर की दूसरी पत्नी , पार्टी अध्यक्ष )
– नंदमुरी हरिकृष्णा (बेटा, सांसद , मंत्री )
– नंदमुरी बालकृष्ण (बेटा, विधायक)
– दग्गुबति पुरंदरेश्वरी (बेटी , विधायक, मंत्री )
– दग्गुबति वेंकटेश्वर राव (दामाद , विधायक, सांसद, मंत्री)
– नारा चंद्रबाबू नायडू (दामाद, मुख्यमंत्री)
वाईएसआर रेड्डी खानदान (कांग्रेस)
– वाईएस राजशेखर रेड्डी (मुख्यमंत्री)
– वाईएस विजयम्मा (पत्नी, विधायक)
– वाईएस जगन मोहन रेड्डी (बेटा, सांसद)
– वाईएस विवेकानंद रेड्डी (भाई , विधायक, मंत्री)
पटनायक खानदान (ओडिशा, बीजू जनता दल)
– बीजू पटनायक
– नवीन पटनायक (बेटा, मुख्यमंत्री)
झारखंड मुक्ति मोर्चा (झारखंड)
– शिबू सोरेन (मुख्यमंत्री, केंद्रीय मंत्री)
– दुर्गा सोरेन(विधायक)
– हेमंत सोरेन (मुख्यमंत्री)
– सीता सोरेन (विधायक)

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.