मैनपुरी: जिले के बरुआ गांव के खेतों में बीते 20 सितंबर को एक ट्यूबवेल के पास महिला का कंकाल पड़ा मिला था. पुलिस ने इस मामले में आरोपी मामा-भांजे को दबोच लिया था. पुलिस की लगातार पूछताछ के बाद भी आरोपी गुनाह नहीं कबूल कर रहे थे. वहीं जब पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो आरोपी मामा संतोष ने अपने भांजे के सारे राज उजागर कर दिए. मामा संतोष ने पुलिस को बताया कि भांजे सर्वेश ने 19 साल की उम्र से ही कई महिलाओं के साथ रेप के बाद उनकी हत्या का सिलसिला शुरू कर दिया था. वहीं इस मामले में आरोपियों के जुर्म कबूलने के बाद पुलिस ने दोनों आरोपियों को जेल भेज दिया है.
जानें पूरा मामला…
जिले के थाना किशनी क्षेत्र स्थित बरुआ नदी के गांव में खेत पर लगे ट्यूबवेल के पास बीते 10 सितंबर को एक महिला के नरमुंड को आवारा जानवर नोच रहे थे. इसकी सूचना पर पहुंची पुलिस ने नरमुंड की पहचान कराने की कोशिश की, लेकिन सफलता हाथ नहीं लगी. इसके दो दिन बाद मिथिलेश कुमार निवासी टोडरपुर थाना चौबिया जनपद इटावा पहुंचे और नरमुंड की पहचान अपनी भाभी पूती देवी के रूप में की. मिथलेश ने पुलिस को बताया कि उसकी भाभी को बरुआ नदी निवासी सर्वेश और उसका मामा संतोष कुमार नगला परसादी थाना बिधूना जनपद औरैया लेकर आए थे. पुलिस ने मिथिलेश की तहरीर के आधार पर नामजद अभियुक्तों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया और जांच में जुट गई थी.
पुलिस अधीक्षक ने इस हत्याकांड के खुलासे के लिए पांच टीमों का गठन किया था. पुलिस ने दोनों मामा-भांजे अभियुक्तों को गिरफ्तार कर कड़ाई से पूछताछ की, जहां इस दौरान मामा संतोष ने सारे राज उजागर कर दिए. वहीं इनकी दरिंदगी की दास्तां सुनकर पुलिस भी दंग रह गई.
पूछताछ में संतोष ने बताया कि जब उसका भांजा 19 वर्ष का था, तभी उसने अहमदाबाद से अपनी प्रेमिका को लाकर उसकी हत्या कर दी थी. इसके बाद लगातार यह सिलसिला चलता रहा. संतोष ने बताया कि वह भोली-भाली महिलाओं को अपने जाल में फंसाता था. इसके बाद उनके साथ रेप करता और फिर हत्या को अंजाम दे दिया करता था. हत्या के बाद या तो उनके शवों को जला देता था या उनके शव के टुकड़े कर जमीन के अन्य हिस्सों में गाड़ देता था. गड़े हुए शव के ऊपर वह फसल उगाता था और वहीं आम के पेड़ पर इसने अपना आश्रय बना रखा था.

संतोष ने बताया कि क्षेत्र में उसके भांजे की इतनी दहशत थी कि कोई भी उसके खिलाफ बोलने की हिमाकत नहीं करता था. शाम ढलते ही खेतों में पड़ी उसकी झोपड़ी के इर्द-गिर्द कोई भी महिला नहीं जाती थी. संतोष ने बताया कि अब तक सर्वेश 7 शादीशुदा महिलाओं की हत्या कर चुका है, जिसमें इसकी खुद की मां भी शामिल है. उनको इसने कमरे में बंद करके जलाकर मार दिया था, क्योंकि वह संतोष को इन कुकृत्यों को करने से रोकती थी.

एसपी ने इस सीरियल किलर के राज खोलने के लिए कमान अपने हाथ में ली. बता दें कि सीरियल किलर ने खुद ही स्वीकार किया कि कुछ दिन पूर्व जो महिला का नरमुंड मिला था, उसके 13 टुकड़े किए गए थे. इसके बाद आरोपी ने उनको खेत में जगह-जगह रखकर दबा दिया था. पुलिस अधीक्षक खुद ही मौके पर पहुंचे उसके बाद शवों को गाड़ने की जगहों को चिन्हित करने के बाद जेसीबी से खुदाई शुरू करवाई.
इस सीरियल किलर ने 7 वारदातों को खुद ही कबूला है और यह शादीशुदा महिलाओं को ही टारगेट करता था. किसी न किसी लालच में उनको बुलाकर गांव के बाहर जो झोपड़ी इसने डाल रखी है, उसी में उनके साथ पहले रेप करता फिर उनकी हत्या कर देता था. वहीं जब इससे भी उसका मन नहीं भरता तो उनकी शव के टुकड़े करके जगह-जगह जमीन में दबा देता था या फिर जला देता था. इसकी दहशत इतनी थी कि गांव के कोई भी इस बारे में बताने के लिए तैयार नहीं था. तस्दीक में यह सामने आया है कि इन घटनाओं में से कोई भी घटना सर्वेश ने गांव के लोगों के साथ नहीं की. वह बाहर के लोगों के साथ ही ऐसी घटनाओं को अंजाम दिया करता था. फिलहाल इन आरोपियों से पूछताछ के बाद इन्हें जेल भेज दिया गया है.
– अजय कुमार, पुलिस अधीक्षक

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.