प्रत्यूष मिश्रा

उसको कसम लगे जो
बिछड़ के इक पल भी जिये
हम बने तुम बने
इक दूजे के लिए

घड़ी की सुई तय समय से 10 मिनट आगे खिसक चुकी है , खड़क सिंह (अर्दली ) ने बैग उठा कंधे पर रख लिया है और छतरी खोल ली है , पर स्कूल यूनिफार्म में बैठा बच्चा पैर हिलाता हुआ पराठा जितनी धीरे हो सकता उससे भी धीरे धीरे कुतर रहा ताकि टू इन वन पर बजता गाना पराठे से पहले ख़तम हो सके… उसे नहीं पता ये म्यूज़िक का कमाल है या लिरिक्स का , उसे बस वो आवाज़ सुननी है अंत तक, जो आस पास दिनभर बोलने वालों से अलग है , जिसमें एक किस्म की खिंचाव है आकर्षण है… ये बालू दा का कमाल है ये उसने बहोत बाद में जाना , बालू दा यानी एसपी बाला सुब्रमनियम …
कुछ बरस बाद
ये वो दौर का जब टेलिविज़न पड़ोसी का और टू इन वन सबका अपना होता था … लोकल बैंड्स की पहचान बनाने का दौर था … संगीत में नए प्रयोग हो रहे थे … मेलोडी कानों में घुल रही थी और ज़बान पर भी … पर्दे के हीरो के कपड़े अपने जैसे होने लगे थे … लिंक बूट्स , नायलॉन टीशर्ट्स बैगी पैन्ट्स का जमाना था , हम नई दुनिया में आंखें खोल रहे थे , सर्दी अधिक है के बहाने ही सही चाय की दुकान पर रुकने लगे थे , उम्र के उस दौर में थे जब सिगरेट की कीमतें और ब्रांड्स जानकारी होनी चाहिए की लिस्ट में आ चुके थे और साईकल लड़कियों के रिक्शे से आगे रखने की होड़ शुरू हो चुकी थी हमें एक आवाज़ की ज़रूरत थी जो हमारा सबकुछ उससे कहा सके जो रिक्शे में रोज़ पीछे छूट जाती थी । एसपी वही आवाज़ थे , शुरुआत/ इज़हार करने की हिम्मत न थी तो एक दूजे के लिये का कैसेट खरीदा और स्कूल के बाद रिक्शे के आगे साईकिल अड़ा कर एक रात के लिए वॉकमैन उसे दे दिया , अगले दिन कॉलेज में वॉकमैन के साथ वो ख़त भी वापस मिला था जिसे हम मिलने से पहले ही तसव्वुर में सौ बार पढ़ चुके थे , ये था हमारे लिए एसपी का जादू ..
सब छूटते जाने का दौर है और आज सुनते हैं एसपी भी नहीं रहे , एक लाइन का मैसेज है उसी का जिससे हमारे दिल की बात हमने नहीं एसपी ने कही थी उस रात..
ज़िंदगी में रुमानियत का ज़िक्र जब भी होगा एसपी का जिक्र होगा, क्योंकि एसपी रुमानियत की धुन पर मोहब्बत के बोल गुनगुनाते लड़कों की आवाज़ हैं और वो आवाज़ यहीं रहनी है हमेशा हमारे साथ क्योंकि उन्होंने खुद कहा था

वी आर मेड फ़ॉर
इच अदर समझे

हम बने तुम बने
एक दूजे के लिये

उसको कसम लगे
जो बिछड़ के इक पल भी जिये

लेखक वरिष्ठ पत्रकार हैं

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.