लखनऊ। महोबा जिले के पूर्व एसपी और निलंबित आईपीएस अधिकारी मणि लाल पाटीदार की मुश्किलें और ज्यादा बढ़ गई हैं। महोबा में जिस व्यापारी को गोली मारी गई थी, उसकी रविवार शाम इलाज के दौरान मौत हो गई। इसी मामले में पाटीदार के खिलाफ पहले से आईपीसी 307 (हत्या के प्रयास) और 120बी (आपराधिक षड्यंत्र) की धाराओं में केस दर्ज है। व्यापारी इंद्रकांत त्रिपाठी की मौत के बाद उनके ऊपर हत्या का केस दर्ज होना तय है।
हमले में घायल व्यापारी इन्द्रकांत त्रिपाठी कानपुर के रीजेन्सी अस्पताल में इलाज चल रहा था। महोबा में व्यापारी के गांव में किसी बड़े बवाल की आशंका के मद्देनजर एडीजी प्रयागराज प्रेम प्रकाश, आईजी के. सत्यनारायण, कई कंपनी पीएसी, महोबा और बांदा जिले की पुलिस फोर्स तैनात की गई है। एडीजी के निर्देश पर शनिवार को ही एफआईआर दर्ज कराई गई जिसमें नामजद आरोपी सुरेश सोनी और ब्रह्मदत्त तिवारी के घरों और रिश्तेदारों के यहां छापेमारी शुरू की गई है।

मृतक व्यापारी के भाई ने की पाटीदार की गिरफ्तारी की मांग

मृतक व्यापारी के भाई रविकान्त त्रिपाठी ने बताया कि गंभीर हालत में इंद्रकांत त्रिपाठी को रीजेन्सी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। रविवार की शाम उनकी मौत हो गई। उन्होंने कहा कि महोबा के तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार ने मेरे भाई की हत्या कराई है। रविकान्त ने अपनी दर्ज कराई गई रिपोर्ट मे महोबा के तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार, सुरेश सोनी, ब्रह्मदत्त तिवारी, कबरई के एसओ देवेन्द्र शुक्ला को भी नामजद किया था।
व्यापारी का वीडियो वायरल होते ही उसे मारी गई गोली
बता दें कि महोबा के व्यवसायी इंद्रकांत त्रिपाठी का एक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ जिसमें उन्होंने महोबा के तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार पर गंभीर आरोप लगाए थे। इंद्रकांत का आरोप था कि पाटीदार उनसे 5 लाख रुपये प्रति माह रंगदारी की मांग करते हैं और पैसे न देने पर जान से मारने की धमकी दी है। वीडियो मुख्यमंत्री तक पहुंचा और इधर इंद्रकांत को गोली भी मार दी गई।
पाटीदार के खिलाफ पहले से दर्ज है हत्या के प्रयास का केस
योगी सरकार ने महोबा के एसपी मणिलाल पाटीदार को तत्काल सस्पेंड कर दिया। पाटीदार की संपत्तियों की विजिलेंस जांच का आदेश दिया जा चुका है। इसके अलावा मृतक के भाई रविकांत की तहरीर पर शनिवार को ही आईपीसी की धारा 387 (जबरन धन वसूली), 307 (हत्या के प्रयास) और 120बी (आपराधिक साजिश) में मणिलाल पाटीदार समेत 4 लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया जा चुका है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.