दिवाकर श्रीवास्तव
कानपुर। हिन्दू बेटियों को मोहरा बनाकर शादी करने वालों के खिलाफ योगी सरकार बहुत ही सख्त कदम उठा सकती है। यूपी में बेटियों के साथ में लगातार बढ़ रही घटनाओं को देखते हुए योगी सरकार बहुत ही जल्द कुछ नए कदम उठाने वाली है। यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ‘लव जिहाद गिरोह’ की सक्रियता पर पूरी तरह से पाबंदी लगाने के लिए सख्त कानून ला सकती है। कानपुर में शालिनी यादव और अन्य पांच हिन्दू परिवारों की बेटियां, लखीमपुर खीरी में दलित परिवार की बेटी और मेरठ में कई हिन्दू परिवार ‘लव जिहाद‘ का शिकार हुये हैं।
‘लव जिहाद गिरोह‘ पर प्रशासन ने सख्त कार्रवाई की है। कानपुर प्रकरण की जांच एसआईटी करेगी। तो वहीं मुख्यमंत्री ने लखीमपुर खीरी प्रकरण में दोषियों पर ‘रासुका‘ लगाने के निर्देश दिये हैं। योगी सरकार जल्द ही ‘लव जिहाद‘ के बढ़ते प्रकरणों पर निर्णायक कार्रवाई करने के लिए सख्त कानून ला सकती है।
हाल ही में मेरठ, कानपुर और लखीमपुर खीरी में सामने आये ‘लव जिहाद‘ के प्रकरण तस्दीक करते हैं कि एक समुदाय विशेष से संबंधित ‘लव जिहाद गिरोह‘ सोची-समझी रणनीति के तहत हिन्दू युवतियों का धर्म परिवर्तन कराने के लिए सक्रिय है। ‘लव जिहाद गिरोह‘ के सदस्य पहले हिन्दू नाम से युवतियों से दोस्ती कर प्रेम का नाटक करते हैं, फिर उनका ब्रेनवाॅश कर शादी का झांसा देकर या ब्लैकमेलिंग के सहारे धर्म परिवर्तन का दबाव बनाते हैं। ऐसे कई प्रकरण सामने आये हैं, जिन पर पुलिस प्रशासन ने सख्त कार्रवाई की है।
कानपुर जनपद में शालिनी यादव से फिजा फातिमा बनी युवती का मामला सामने आने के बाद उसी मोहल्ले से ‘लव जिहाद‘ के पांच और मामले सामने आये हैं। पीड़ित परिवारों ने प्रशासन से बेटियों को बचाकर वापस लाने की गुहार लगाई है। पीड़ित परिवारों का कहना है कि बीते 2 महीनों में पांच लड़कियों का ब्रेनवॉश कर उनका धर्म परिवर्तन कराने का दबाव बनाया गया है। ब्रेनवॉश कर धर्मांतरण कराने वाला एक गैंग सक्रिय है। सबसे बड़ी बात यह है कि पांचों आरोपी एक ही कॉलोनी के रहने वाले हैं।पीड़ित परिवारों ने पुलिस प्रशासन से अपील की है कि हमारी बच्चियों को गुमराह कर धर्मांतरण कराया गया है। उनको बरामद कर कोर्ट में बयान कराया जाए। शहर भर के सभी थानों में दर्ज मामलों की जांच कराई जाए तो एक बहुत बड़े गैंग का खुलासा होगा। शालिनी के भाई का कहना है कि फैसल मेरी बहन को बहला-फुसलाकर, उससे 10 लाख की चोरी कराने के बाद ले गया है।
आईजी रेंज, कानपुर मोहित अग्रवाल ने बताया, पांच बच्चियों के माता-पिता ने प्रार्थनापत्र दिया है कि बच्चियों का ब्रेनवॉश करके या बरगला कर ले जाया गया है। उनका धर्म परिवर्तन कराकर मैरेज की है। सभी ने बच्चियों को बरामद कर कोर्ट में बयान कराने की मांग की है। इसके लिए एक राजपत्रित अधिकारी के नेतृत्व में एसआईटी टीम गठित कर दी गई है। जो इन सभी मामलों की जांच करेगी। यह बात सामने आ रही है कि सभी आरोपित एक ही कॉलोनी से हैं।
पांच बेटियों का कराया धर्मांतरण!
जनपद कानपुर में ‘लव जिहाद‘ का शिकार हुई शालिनी यादव प्रकरण के बाद कई ऐसे कई परिवार सामने आये हैं, जिनका आरोप है कि उनके घर की बेटियों को साजिश के तहत एक समुदाय विशेष के लड़के नाम बदलकर प्रेमजाल में फंसाकर धर्म परिवर्तन का दबाव बनाया है। कल्यानपुर थाना क्षे़त्र के ऐसे ही एक प्रकरण में दो सगी बहनें शामिल हैं, जिसमें से एक नाबालिग है। इनका धर्म परिवर्तन कराया गया है। इसी तरह से पनकी थाना क्षेत्र में दो सगी बहनें पीड़िता हैं। इनके परिवार ने भी पुलिस प्रशासन को बताया समुदाय विशेष के ये लड़के अपना ‘हिंदू नाम‘ बताकर बच्चियों के करीब आये।
कानपुर में गठित हुई एसआईटी
कानपुर में शालिनी यादव प्रकरण के बाद से शहर में ‘लव जिहाद गैंग‘ के सक्रिय होने की बात सामने आई है। पीड़ितों का कहना है कि पिछले एक महीने में 5 मामले सामने आ चुके हैं। ‘लव जिहाद‘ के मामले में आईजी मोहित अग्रवाल के आदेश पर एसआईटी गठित की गई है। आरोपितों की एक-दूसरे से जुड़े होने की जांच एसआईटी करेगी। साथ ही सुनियोजित तरीके से जिहाद फैलाने और बाहर से फंडिंग के आरोपो की भी जांच होगी।
लखीमपुर खीरी प्रकरण में ‘रासुका‘ के तहत कार्रवाई
लखीमीपुर खीरी में छात्रा के साथ दुष्कर्म के बाद हत्या के मामले में लव जिहाद का मामला सामने आने पर सीएम योगी आदित्यनाथ ने आरोपी के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के तहत कार्रवाई करने और पीड़ित परिवार की आर्थिक मदद करने के निर्देश दिये हैं। मुख्यमंत्री ने पीड़ित परिवार को पांच लाख की आर्थिक सहायता देने की घोषणा करते हुए कहा इस प्रकरण की सुनवाई फास्ट ट्रैक कोर्ट में करा कर अपराधी को जल्द से जल्द सजा दिलाई जाएगी। इसमें सरकार पीड़िता की तरफ से केस लड़ेगी। पुलिस आरोपित दिलशाद के खिलाफ एनएसए के तहत कार्रवाई करेगी।
मेरठ में सामने आये कई प्रकरण
पश्चिमी उत्तर प्रदेश में ‘लव जिहाद‘ के कई प्रकरण सामने आये हैं। मेरठ का फैसल कभी माथे पर टीका और हाथों में कलावा बांधकर हिन्दू युवती को झूठे प्रेमजाम में फंसाकर गर्भवती बनाता है। कभी शाकिब, अमन बनकर पहले एकता को अपने प्रेमजाल में फंसाता है और फिर परिजनों के सहयोग से उसका बेरहमी से कत्ल कर देता है। तो वसीम कभी दिनेश रावत बनकर हिन्दू युवती से प्रेम संबंध उसे ब्लैकमेल करने के लिए बनाता है। मेरठ स्थित परतापुर के गांव भूड़बराल का शादीशुदा शमशाद गाजियाबाद की महिला प्रिया से फेसबुक पर अमित गुर्जर बनकर प्रेमप्रसंग रचाता है। फिर शादी का झांसा देकर साथ रखता है। असलियत सामने आने पर मां-बेटी की हत्या कर दोनों के शव घर में ही दफना देता है। लव जिहाद के यह प्रकरण हालही में मेरठ जनपद की सुर्ख़ियां बनें हैं।
‘लव जिहाद’ के बढ़ते पैटर्न को मान चुका है केरल हाईकोर्ट
बीते दिनों केरल में एक हिन्दू लड़की के पिता ने आरोप लगाया कि इस्लामिक कट्टरता फैलाने के लिए एक सोचे-समझे प्लान के तहत ‘लव जिहाद‘ पर काम किया जा रहा है। केरल हाईकोर्ट ने शफीन की हिंदू लड़की से शादी को ‘लव जिहाद‘ का बढ़ता पैटर्न बताते हुए इसे रद्द करने का ऑर्डर दिया था। शफीन ने सुप्रीम कोर्ट में अपील दायर कर एनआईए जांच रोकने की मांग की। सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने एनआईए से कहा कि वो सुप्रीम कोर्ट के रिटायर्ड जस्टिस आरवी. रवींद्रन के सुपरविजन में इस मामले की जांच करे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.