बिहार में बाढ़ग्रस्त इलाकों के हरेक प्रभावित परिवारों को सरकार की ओर से छह-छह हजार रुपए दिए जाएंगे। साथ ही, बाढ़ के कारण जिनका कच्चा-पक्का मकान क्षतिग्रस्त हो गया है या जिनकी फसल बर्बाद हुई है, सरकार उन्हें भी सहायता देगी।

इसके अलावा पशुओं का नुकसान होने पर भी सरकार सहायता देगी। प्रभावितों को सरकारी सहायता पहुचाने के लिए आपदा प्रबंधन विभाग ने जिलों को अविलंब सूची तैयार करने के लिए कहा है।

अभी 10 जिले बाढ़ से प्रभावित
बिहार में अभी 10 जिले- सीतामढ़ी, शिवहर, सुपौल, किशनगंज, दरभंगा, मुजफ्फरपुर, गोपालगंज, खगड़िया, पूर्वी व पश्चिमी चम्पारण बाढ़ से प्रभावित हैं। इन जिलों में अभी 6.36 लाख से अधिक आबादी बाढ़ से प्रभावित है। इन प्रभावितों को सहायता देने के लिए आपदा प्रबंधन ने लोगों की पहचान कर उनकी सूची बनाने का निर्देश जिलों को दिया है।

सूची में नाम-पता और बैंक खाता भी 
विभाग ने कहा है कि बाढ़ग्रस्त इलाके के सभी परिवारों को सहाय्य अनुदान यानी जीआर मद में 6 हजार रुपए दिए जाने हैं। इसके लिए प्रभावित परिवारों की सूची तैयार की जाए। सूची तैयार करते समय प्रभावितों का नाम-पता के साथ ही बैंक खाता भी लिया जाएगा। प्रभावितों को 6 हजार नकदी सीधे बैंक खातों में हस्तांतरित होगी ताकि कोई बिचौलिया बीच मे न आये।

क्षतिग्रस्त मकानों व फसल नुकसान का भी ब्यौरा तैयार करने को कहा 
बाढ़ग्रस्त इलाके में हुए अन्य नुकसान में भी लोगों को सरकार सहायता देगी। फसल क्षति से लेकर मकान व पशु नुकसान में भी सहायता का प्रावधान है। जिलों को कहा गया है कि वह क्षतिग्रस्त मकानों के साथ ही फसल नुकसान का भी ब्यौरा तैयार करें।

फसल नुकसान का विवरण कृषि विभाग के माध्यम से तैयार होगा। विभाग ने यथासंभव प्रभावितों की सूची बनाने को कहा है ताकि लोगों को जल्द से जल्द सहायता राशि दी जा सके। वहीं बाढ़ में जिनका गाय, भैंस, बकरी से लेकर मुर्गा का भी नुकसान हुआ है तो सरकार उन्हें भी सहायता देगी। कपड़ा और बर्तन के नुकसान होने पर भी सभी परिवारों को सहायता देने का प्रावधान है।

नुकसान होने पर इन मदों में मिलेगी सहायता
6000 नकदी हरेक परिवार को
1800 कपड़ा मद में
2000 बर्तन के लिए
6800 प्रति हेक्टेयर फसल
30 हजार प्रति गाय, भैंस में
3 हजार प्रति बकरी, भेड़, सुअर
25 हजार प्रति घोड़ा पर
50 रुपये प्रति मुर्गा, अधिकतम 5 हजार
95100 कच्चा-पक्का मकान नुकसान में
5200 पक्का मकान के आंशिक क्षतिग्रस्त में
3200 कच्चा मकान के आंशिक क्षतिग्रस्त में
4100 झोपड़ी के पूर्ण नुकसान होने पर
2100 जानवर के शेड नुकसान मद में

बाढ़ग्रस्त क्षेत्र
10 जिला
55 प्रखंड
282 पंचायत
636311 आबादी
1.50 लाख से अधिक परिवार

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.