jaswantभाजपा में 64 के मोदी के पीएम बनने के लिए सत्तर पार सभी भाजपाई को वीआरएस दिए जाने की योजना है।इसी कड़ी में मुरलीमनोहर जोशी फिर कल्याण सिंह फिर आडवाणी और अब ताजा कड़ी में पूर्व विदेश मंत्री जसवंत सिंह हैं। उनका टिकट काट दिया गया है। टिकट काटे जाने की खबर के बाद राजस्थान में मीडिया से बात करते हुए जसवंत सिंह रो पड़े। उनकी आखों से आंसू निकल आए और उन्होंने भरे गले से कहा कि आज मैं दुखी हूं। उन्होंने कहा कि ना तो मैं बिकाऊ हूं और ना ही मेरा बेटा बिकाऊ है। मुझे जिससे बात करनी थी मैं कर चुका हूं। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी में अब अतिक्रमण हो रहा है। मेरे साथ दूसरी बार ऐसा हुआ हैए बस अब और नहीं। सोमवार को जसवंत सिंह किसी निर्णय पर पहुंचेंगे। उन्होंने कहा कि वो सोमवार 24 मार्च को अपना फैसला सुनाएंगे। माना जा रहा है कि वो अब बाड़मेर से निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे। बाड़मेर में जसवंत सिंह के समर्थन में जो पोस्टर चस्पा किए गए हैं उनमें लिखा है कि असली बीजेपी और नकली बीजेपी के अंतर को समझो। खबरें आ रही हैं कि जसवंत समर्थकों ने बाड़मेर के बीजेपी दफ्तर पर कब्जा कर लिया है। इस बीच जसवंत ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि वो जनता को असली बीजेपी और नकली बीजेपी के बीच का अंतर बताएंगे। माना जा रहा है कि वो अब बाड़मेर से निर्दलीय चुनाव लड़ेंगे। बाड़मेर में जसवंत सिंह के समर्थन में जो पोस्टर चस्पा किए गए हैं उनमें लिखा है कि असली बीजेपी और नकली बीजेपी के अंतर को समझो। जसवंत सिंह के बयान से कयास लगाए जा रहे हैं कि बागियों का एक गुट पार्टी छोड़ कर नई पार्टी का गठन कर सकता है। भारत के इतिहास में इस तरह कई बार कई पार्टियों का गठन हुआ है। जसवंत सिंह ने कहा किए मैंने अपनी पूरी जिंदगी पार्टी ने नाम कर दी। अब जनता ही फैसला करेगी कि असली बीजेपी कौन से है और नकली बीजेपी कौन सी। अब मैं असली बीजेपी के लिए काम करूंगा। बीजेपी ने जसवंत सिंह पर अपना रुख साफ कर दिया है। राजनाथ सिंह ने कहा कि अब बाड़मेर में उम्मीदवार बदला नहीं जाएगा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.