दिवाकर श्रीवास्तव
कानपुर आठ पुलिसकर्मियों के हत्यारे गैंगस्टर विकास दुबे का आज आखिरकार एनकाउंटर कर दिया गया है। पुलिस ने आज सुबह उसे कानपुर से महज चंद किलोमीटर की दूरी पर ही एनकाउंटर में मार गिराया। इस तरह से आठ पुलिस वालों की हत्या करने वाले पांच लाख का इनामी विकास दुबे एनकाउंटर में ढेर हो गया है। बता दें, कल ही विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर परिसर से गिरफ्तार किया गया था। हालांकि, उसकी मौत के बाद पुलिस की थ्योरी पर सवाल उठ रहे हैं, अब पुलिस को इन सवालों पर जवाब देना होगा।
सवाल 1:
इस एनकाउंटर के बाद पहला सवाल यह है कि क्या आखिर काफिले की वही गाड़ी अचानक कैसे पलटी जिसमें अपराधी विकास दुबे ही सवार था। आखिर दूसरी गाड़ी क्यों नहीं पलटी। चलिए इसे संयोग ही मान लेते हैं, तो फिर पुलिस ने अपराधी के हाथ क्यों खुले छोड़े थे, क्या उसे हथकड़ी नहीं लगाई जानी चाहिए थी। वैसे, जब पुलिस किसी को पेशी पर भी लाती है, तो दोनों हाथों को बांध देती है ?
सवाल 2:
एक सवाल यह भी उठता है कि जब एक दिन पहले ही विकास दुबे ने पुलिस के सामने सरडेंर किया था, तो फिर आज क्यों वह भागा? बता दें, कल ही उसने मध्य प्रदेश पुलिस को अपनी पहचान बताकर गिरफ्तारी करवाई थी। बता दें, अगर उसे भागना ही होता, तो आखिर वह क्यों महाकाल के दर्शन करने के लिए हाई सिक्योरिटी जोन में क्यों जाता।
सवाल 3:
पुलिस ने इस घटना में प्रभात और विकास दुबे के एनकाउंटर में एक जैसा ही रोल किया है। गुरुवार को प्रभात और शुक्रवार को विकास दुबे लगभग एक ही तरह से मारे गए। प्रभात के एनकाउंटर से पहले एसटीएफ की गाड़ी पंक्चर हो गई थी, तो फिर प्रभात पुलिसकर्मियों से पिस्टल छीनकर भागने की कोशिश करने लगा और पुलिस ने उसका एनकाउंटर करके मार डाला। यही नहीं, आज भी कुछ वैसे ही हुआ है, जैसा कि कल हुआ था।
सवाल 4:
एक सवाल यह भी उठ रहा है कि आखिर मीडियाकर्मियों की गाड़ियों को पुलिस ने रोका। जब वे भी उस काफिले के साथ ही उज्जैन से आ रहे थे, लेकिन दुर्घटना स्थल से कुछ पहले मीडिया और अन्य चल रही निजी गाड़ियों को पुलिस ने रोक दिया। न्यूज एजेंसी एएनआई ने भी इसका फुटेज जारी कर दिया है। जब पुलिस ने इन्हें आगे नहीं बढ़ने दिया, इससे साफ जाहिर होता है कि घटना को किस तरह से अंजाम दिया गया है। आखिर क्यों मीडिया को आगे बढ़ने से कुछ देर के लिए रोक दिया गया था? यदि विकास ने भागने की कोशिश की तो उसके पैर में गोली क्यों नहीं मारी गई? बता दें, पुलिस का एक पैर खराब है, उसके पैर में राड पड़ी हुई है। ऐसे में भागने में सफल हो जाएगा, यह भी एक प्रश्न है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.