विकास दुबे मामले में बड़ों बड़ों की सांसें अटकी

यूपी पुलिस को छकाते हुए विकास दुबे महाकाल के मंदिर पहुंच गया। जहां उसने अपनी सुरक्षित गिरफ्तारी करवा ली। यूपी पुलिस प्रदेश के सबसे ईनामी अपराधी को पकड़ने में नाकाम साबित हुई। यूपी पुलिस की अलग अलग टीमें सात प्रदेशों की पुलिस विकास को खोजने में लगी थी इसके बाद भी वह शिकंजे में नहीं आया। गुरुवार सुबह विकास दुबे उज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार हुआ। हालांकि कुड जानकार इसे सरेंडर बता रहे हैं। हालांकि मध्य प्रदेश पुलिस का दावा है कि उसे गिरफ्तार किया गया है।
ऐसे हुई पहचान
विकास दुबे कैसे गिरफ्तार हुआ, इस बात को लेकर अभी भी सस्पेंस बना हुआ है। कभी कहा जा रहा है कि पुजारी ने उसे पहचाना तो कभी बताया जा रहा है कि सुरक्षाकर्मी ने उसकी पहचान की। मंदिर से जुड़े लोग भी इस विषय पर ज्यादा कुछ नहीं बोल रहे हैँ।
उज्जैन के डीएम आशीष सिंह का कहना है कि आज सुबह 7.30 और 8 बजे के बीच एक संदिग्ध शख्स को महाकाल मंदिर परिसर में देखा गया। उसने मंदिर के दर्शन को लेकर एक दुकानदार सुरेश से जानकारी ली थी और पूजा के सामान को खरीदा। सामान खरीदते समय जैसे ही विकास ने माॅस्क उतारा दुकानदार को कुद शक हुआ। इसके बाद दुकानदार ने गार्ड को बताया। प्राइवेट सिक्योरिटी के गार्ड एक पुलिस जवान के साथ महाकाल मंदिर कैंपस में गया। कैंपस के अंदर विकास दुबे को पकड़ा गया। पूछताछ में विकास दुबे सही से सवालों के जवाब नहीं दे पाया। इसके बाद विकास दुबे को महाकाल स्थित चौकी पर लाया गया। पुलिस का शिकंजा कसता देख विकास दुबे ने खुद का परिचय दिया।
विकास दुबे की गिरफ्तारी के बाद मां सरला ने कहा कि विकास का ससुराल मध्य प्रदेश में है और वह हर साल उज्जैन के महाकाल मंदिर जाता था। विकास को महाकाल बाबा ने ही बचाया है। उन्होंने आगे कहा कि इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं क्या कहती हूं, सरकार को जो उचित लगता है वो कर रही है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.