आठ पुलिसकर्मियों की हत्या का मुख्य आरोपी और हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के कानपुर जिले के बिकरू गांव स्थित किलेनुमा घर को जमींदोज करने के बाद पुलिस को कुछ हद तक सफलता मिली। दीवारों में चुनवा कर रखे गए असलहे और विस्फोटक बरामद हुआ है। इसे पुलिस ने सीज कर लिया है। विस्फोटक की डेंसिटी क्या है इसकी जांच कराने के लिए सैंपल फोरेंसिक टीम को सौंपा जाएगा। इस मामले में पुलिस ने विकास दुबे के खिलाफ आर्म्स एक्ट और विस्फोटक अधिनियम के तहत चौबेपुर थाने में एफआईआर दर्ज कराई गई है।

पुलिस को सूचना मिली थी कि कालेधन की तरह विकास दुबे ने अपनी कोठी की दीवारों में असलहे चुनवा कर रखे हैं। इसी के आधार पर उसके घर पर जेसीबी चलवाकर जांच की। विकास के पुराने और नए घर की दीवार और फर्श से पुलिस को 12 बोर के दो, 315 बोर के चार तमंचे, 25 कारतूस, 2 किलोग्राम विस्फोटक, चार किलो के करीब रिपीट और कील मिली हैं।

दो से तीन घरों को उड़ाने की क्षमता 
आईजी ने बताया कि बारूद देखने में अच्छी क्वालिटी का लग रहा था। वह इतना तेज दिख रहा था कि उससे दो या तीन मकान तक उड़ाए जा सकते हैं। उन्होंने बताया कि बारूद की डेंसिटी कितनी और क्या है इसकी जांच कराई जाएगी और उस रिपोर्ट को विवेचना में शामिल किया जाएगा।

एफआईआर में बढ़ाए जा सकते हैं नाम 
पुलिस मुठभेड़ में आठ पुलिस कर्मियों की मौत के मामले में पुलिस ने विकास दुबे समेत 25 लोगों को खिलाफ नामजद और 50 अज्ञात के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। इस मामले में लगभग एक दर्जन नाम और बढ़ाए जाएंगे। आईजी के मुताबिक जिन लोगों ने विकास को पूर्व में संरक्षण दिया है और वर्तमान में दे रहे हैं उन सबको मुल्जिम बनाया जाएगा।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.