कांग्रेस की मुसीबतें थमने का नाम नहीं ले रही हैं। अमेरिकी कोर्ट ने कांग्रेस अध्यक्ष 2013_03_14_00_26_32_Sonia-Gandhi340से पासपोर्ट की एक प्रति उपलब्ध करवाने के लिए कहा हैए ताकि यह मालूम हो सके कि दो सितंबर से नौ सितंबरए 2013 के बीच वह अमेरिका में नहीं थीं। सोनिया ने न्यूयॉर्क की ब्रूकलिन की एक संघीय अदालत में दस जनवरी को एक याचिका दायर कर 1984 के सिख विरोधी दंगे से संबंधित मामले में अपने खिलाफ मानवाधिकार उल्लंघन का मामला खारिज करने का अनुरोध किया था। उन्होंने कहा था कि उन्हें इस संबंध में कोई सम्मन नहीं मिलाए क्योंकि उस वक्त वह अमेरिका में नहीं थीं।
ब्रूकलिन की संघीय अदालत के न्यायाधीश ब्रियन एमण् कोगन ने हालांकि अमेरिका में नहीं रहने को लेकर सोनिया के उस बयान को साक्ष्य की दृष्टि से अपर्याप्त माना और बृहस्पतिवार को उनसे अपने पासपोर्ट की प्रति मुहैया कराने के लिए कहाए जिसमें उनकी हाल की अमेरिका यात्रा के बारे में दर्शाया गया हो कि वह कब यहां पहुंचीं और कब यहां से गई।
न्यायाधीश ने सोनिया से सात अप्रैल तक ये दस्तावेज मुहैया कराने को कहा है। सोनिया के खिलाफ सिख फॉर जस्टिस संगठन की याचिका पर मानवाधिकार उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया है।
एसएफजे ने सोनिया पर सिख विरोधी दंगों में कथित तौर पर शामिल कमलनाथए सज्जन कुमार व जगदीश टाइटलर जैसे कांग्रेस नेताओं को बचाने का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ क्षतिपूरक और दंडात्मक कार्रवाई करने का अनुरोध किया है। एसएफजे के मुताबिकए पिछले साल नौ सितंबर को उसने न्यूयॉर्क स्थित मेमोरियल स्लोन.केटरिंग कैंसर सेंटर अस्पताल व वहां के सुरक्षा कर्मियों को सम्मन जारी किया था और शिकायत भेजी थी। माना जाता है कि सोनिया उस वक्त वहां इलाज के लिए गई थीं। एसएफजे व सिख विरोधी दंगे के कुछ पीडि़तों की शिकायत पर ही ब्रूकलिन की अदालत ने सितंबरए 2013 में सोनिया के खिलाफ सम्मन जारी किया था।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.