लखनऊ। कानपुर में शातिर अपराधी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे के खिलाफ एक्शन के दौरान आठ पुसिलकर्मियों के शहीद होने पर प्रदेश में आक्रोश का माहौल है। सीएम योगी आदित्यनाथ के साथ ही डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी जहां अपराधी को पकडऩे की जुगत में हैं, वहीं बसपा मुखिया मायावती ने इस प्रकरण को बेहद शर्मनाक बताया है। मायावती ने शीघ्र ही इस मामले पुलिस से कार्रवाई से उम्मीद की है तो समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव ने अपराधियों को जिंदा पकडऩे की मांग की है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने प्रदेश की खराब कानून-व्यवस्था को इसका कारण बताया है। विपक्ष के तीनों नेताओं ने ट््वीट किया है।

बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने कहा कि कानपूर में शातिर अपराधियों से एक भिड़ंत में डिप्टी एसपी सहित आठ पुलिसकॢमयों की मौत व सात अन्य के आज तड़के घायल होने की घटना अति-दु:खद, शर्मनाक व दुर्भाग्यपूर्ण। यह स्पष्ट है कि योगी आदित्यनाथ सरकार को अब भी खासकर कानून-व्यवस्था के मामले में और भी अधिक चुस्त व दुरुस्त होने की जरूरत है।

मायावती ने कहा कि इस सनसनीखेज घटना के लिए अपराधियों को सरकार को किसी भी कीमत पर छोडऩा नहीं चाहिए, चाहे इसके लिए विशेष अभियान चलाने की जरूरत क्यों न पड़े। इसके साथ ही बसपा की मांग है कि सरकार इस ऑपरेशन में शहीद पुलिस के परिवार को समुचित अनुग्रह राशि के साथ ही परिवार के किसी सदस्य को नौकरी भी दे।

समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि कानपुर की दुखद घटना में पुलिस के आठ वीरों की शहादत को श्रद्धांजलि। उत्तर प्रदेश के के आपराधिक जगत की इस सबसे शर्मनाक घटना में ‘सत्ताधारियों और अपराधियों’ की मिलीभगत का खामियाजा कर्तव्यनिष्ठ पुलिसकॢमयों को भुगतना पड़ा है। अब तो इसमें पुलिस को अपराधियों को जिंदा पकड़कर वर्तमान सत्ता का भंडाफोड़ करना चाहिए। इसके साथ ही अखिलेश यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश की भाजपा भाजपा सरकार कानपुर में आठ पुलिसकर्मियों की शहादत के बाद अपनी पोलपट्टी खुलने के डर से आनन-फानन में मुख्य अपराधी को न पकड़कर छोटी-मोटी मुठभेड़ दिखाने का नाटक करवा रही है। इससे तो हमारे पुलिसकॢमयों का मनोबल और गिरेगा तथा पुलिस का आक्रोश भी काफी बढ़ेगा। सरकार तुरंत मुआवजा घोषित करे तथा परिजनों को हर संभव संरक्षण दे।

कांग्रेस महासचिव तथा उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि बदमाशों को पकडऩे गई पुलिस पर बदमाशों ने अंधाधुंध फायरिंग कर दी जिसमें यूपी पुलिस के सीओ, एसओ सहित 8 जवान शहीद हो गए। यूपी पुलिस के इन शहीदों के परिजनों के साथ मेरी शोक संवेदनाएं। उन्होंने कहा कि यूपी में कानून व्यवस्था बेहद बिगड़ चुकी है, अपराधी बेखौफ हैं। यहां पर तो आमजन व पुलिस तक सुरक्षित नहीं है। कानून व्यवस्था का जिम्मा खुद सीएम के पास है। इतनी भयावह घटना के बाद उन्हेंं सख़्त कार्रवाई करनी चाहिए। अब तो कोई भी ढिलाई नहीं होनी चाहिए।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.