लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार पर लगातार हमलावर हो रही प्रियंका गांधी को एक अगस्त तक अपना मकान खाली करना होगा। लोधी एस्टेट स्थित सरकारी बंगले को छोड़ने के लिए उनके पास नोटिस आ गया है। केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय की ओर से कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को दिल्ली के लोधी एस्टेट स्थित सरकारी बंगले को खाली करने का नोटिस दे दिया है। कांग्रेस महासचिव को बंग्ला छोड़ने का नोटिस मिलने के बाद एक बार फिर से कांग्रेस और भाजपा के बीच में जुबानी जंग तेज हो गई है। इसी बीच में यह खबर आ रही है कि प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश के लखनऊ में शिफ्ट हो सकती है। लखनऊ में उनके शिफ्ट होने की असली वजह यह मानी जा रहा है कि यूपी में 2022 में होने वाले चुनाव में वह पूरी रणनीति के साथ में चुनाव लड़ना चाहती है। इसी वजह से अब उन्होंने लखनऊ में ही शिफ्ट होने का प्लान बना लिया है। बताया है कि प्रियंका जल्द उत्तर प्रदेश में अपना आवास बना सकती हैं।
इस आवास में शिफ्ट होगी प्रियंका
यूपी में कांग्रेस को संजीवनी देने में जुटी प्रियंका गांधी जल्द ही लखनऊ को अपना ठिकाना बनाने जा रही है। ऐसा कहा जा रहा है कि लखनऊ में वह अपना आवास कौल आवास में बना सकती है। वह लखनऊ में शीला कौल की कोठी में रुकने पर विचार कर रही है। बता दें, लखनऊ में उनके रूकने को लेकर चर्चा पिछले काफी समय से चल रही है, लेकिन अभी तक उन्होंने अपना ठिकाना नहीं बनाया है, लेकिन दिल्ली में आवास खाली होने के बाद अब वह अपना आवास लखनऊ में बना सकती है। शीला कौल के बारे में आप सभी जानते ही होंगे, कि कांग्रेस और गांधी परिवार से उनके बहुत ही अच्छे संबंध रहे हैं। शीला कौल का निधन साल 2015 में हुआ है। वह इंडियन नेशनल कांग्रेस की लोकप्रिय नेता के साथ ही कांग्रेस की सरकार में कैबिनेट मंत्री और राज्यपाल भी रही है। ऐसा कहा जाता है कि शीला कौन जवाहरलाल नेहरू की भाभी और इंदिरा गांधी की मामी थीं।
बीजेपी की अपनी अलग रणनीति
वह भले ही यूपी की राजनीति में सक्रिय हो रही हो, लेकिन बीजेपी भी उनसे लड़ने के लिए पूरी तरह से तैयार है। बीजेपी इस समय प्रदेश में गांव-गांव स्तर पर अपने को मजबूत करने में जुटी हुई है और सरकार पर लगातार हमला भी बोल रही है। ऐसा कहा जा रहा है कि बीजेपी कांग्रेस के पुराने कामों को जनता के बीच में लाकर अपनी छवि को बेहतर बनाने में जुटी हुई है। बीजेपी ने पिछले तीन साल में जो काम किया है, वह किसी से छिपा नहीं है। प्रदेश में योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में चल रही सरकार में भ्रष्टाचार पूरी तरह से समाप्त हो गया है। सरकारी योजनाओं का पैसा गांव तक लोगों के बीच में पहुंच रहा है। योजनाओं को सीधे ही जनता से अटैच कर दिया गया है। जनता के बीच में सीधे पहुंचने का ही नतीजा है कि आज भी बीजेपी की लोकप्रियता पर कोई असर नहीं पड़ा है। जनता बीजेपी के कामों को अच्छी तरह से पंसद कर रही है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.