लखनऊ। लखनऊ विश्वविद्यालय समेत संबंद्ध कॉलेजों में फाइनल ईयर व सेमेस्टर की परीक्षा के बहिष्कार को लेकर सपा छात्र सभा के छात्राें ने जीपीओ पर जमकर प्रदर्शन किया। बढ़ते हुए हंगामे को देखकर मौके पर पुलिस पहुंची और छात्रों को प्रदर्शन स्थल से उठाकर ले गई। छात्रों की मांग है कि कोरोना के बढ़ते हुए संक्रमण को देखते हुए लखनऊ विश्वविद्यालय समेत सभी कॉलेजों की फाइनल ईयर की परीक्षा को निरस्त कर दिया जाए और उन्हें प्रमोट कर दिया जाए। वहीं एलयू ने सात जुलाई से परीक्षा का शेड्यूल जारी कर दिया था।

लखनऊ विश्वविद्यालय ने सात जुलाई से फाइनल ईयर व सभी सेमेस्टर की परीक्षा का शेड्यूल जारी कर दिया है। शिक्षक व छात्र पहले से ही परीक्षा के विरोध में हैं। इसे लेकर कई बार एलयू के कुलपति, उप मुख्यमंत्री व मुख्यमंत्री को भी ज्ञापन दिया जा चुका है । प्रदर्शन को लेकर सपा छात्र संघ ने गत सप्ताह एलयू प्रशासन को ज्ञापन सौंपा था जिसमें उन्होंने परीक्षा न करवाने की मांग की थी और मांगे पूरी न होने की स्थिति में जीपीओ पर प्रदर्शन की बात भी कही थी।

छात्र सभा के स्टूडेंट्स दोपहर 12 बजे से अपनी मांगों के साथ जीपीओ पर बैठ गए। उनके हाथ में परीक्षा कराए बगैर द्वीतीय, तृतीय व प्रथम सेमेस्टर के स्टूडेंट्स को प्रमोट करने के पोस्टर थे। भीड़ बढ़ते देख मौके पर पुलिस पहुंची और छात्रों को समझाने का प्रयास किया। छात्रों की बढ़ती संख्या की भनक लगते मौके पर पहुंची पुलिस ने धरना समाप्त कराने का प्रयास किया। मगर छात्र सभा द्वारा प्रदर्शन जारी रखने पर पुलिस ने एक-एक कर गिरफ्तारी शुरू कर दी। पुलिस ने प्रदर्शन कर रहे छात्रों को गिरफ्तार कर ले गई।

यह है मांग 

छात्रों की मांग है कि कोरोना के मामले बहुत ज्यादा बढ़ गए हैं जिसे देखते हुए परीक्षा करवाना बेहद असुरक्षित है। छात्रों व शिक्षकों की जान से खिलवाड़ है। छात्र संघ की मांग है कि प्रथम, द्वीतीय व तृतीय वर्ष के स्टूडेंट्स को बिना परीक्षा के प्रमोट कर दिया जाए। अधिकतर स्टूडेंट्स दूसरे जिले में रहते हैं उनकी आर्थिक स्थिति भी अच्छी नहीं है। जिसकी वजह से उनकी हॉस्टल फीस और कॉलेज की फीस को पूरी तरह से माफ कर दिया जाए। इसके लिए एलयू को स्टूडेंट फंड का उपयोग किया जाना चाहिए।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.