कुआंरों का इंतजार खत्म हुआ। मेहंदी की रस्म शुरू हो गई है। लॉकडाउन में ढोलक की थाप सुनाई देने लगी हैं। सेहरा तैयार है। पंडित जी शाम से ही डट चुके हैं। मेहमान कम जरूर हैं लेकिन उत्साह में कमी नहीं है। आपको बताते चलें कि 31 मई से शुक्र अस्त थे जिसके चलते विवाह आदि कार्य नहीं हो रहे थे। ज्योतिषाचार्य एस.एस.नागपाल ने बताया कि 9 जून को शुक्र उदय होने के बाद 13 जून से विवाह आदि मांगलिक कार्य शुरू होगें। उन्होंने बताया कि जून से दिसम्बर तक 20 विवाह मुर्हत हैं फिर 01 जुलाई से देवशयनी एकादशी से चातुर्मास मास प्रारम्भ होकर 25 नवम्बर तक रहेगा। इस बीच भी विवाह आदि कार्य नहीं होगें। 16 दिसम्बर से सूर्य के धनु राशि में प्रवेश करने से खरमास लग जायेगा और मकर संक्रान्ति 14 जनवरी 2021 तक विवाह आदि कार्य नहीं होगें।
वर्ष 2021 में शुक्र 16 फरवरी से 17 अप्रैल तक 61 दिन अस्त रहेंगे और गुरु 19 जनवरी से 12 फरवरी तक 28 दिन अस्त रहेंगे एवं 14 मार्च से 14 अप्रैल तक खरमास रहेगा।

इस वर्ष के विवाह मुर्हूत
जून 13, 14, 15, 25, 26, 27, 28, 29, 30,
नवम्बर 26, 29, 30
दिसम्बर 1, 2, 6, 7, 8, 9, 10, 11
रिपोर्ट मधुर मोहन तिवारी

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.